close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत करेगा 11वीं सदी के शिव मंदिर के जीर्णोद्धार में कंबोडिया की मदद

दक्षिण पूर्व एशिया के कंबोडिया में विश्व विरासत स्थल में शामिल भगवान शिव के प्राचीन मंदिर के जीर्णोद्धार और संरक्षण में भारत मदद करेगा. 

भारत करेगा 11वीं सदी के शिव मंदिर के जीर्णोद्धार में कंबोडिया की मदद
प्रतीकात्मक तस्वीर

नोम पेन्ह: दक्षिण पूर्व एशिया के कंबोडिया में विश्व विरासत स्थल में शामिल भगवान शिव के प्राचीन मंदिर के जीर्णोद्धार और संरक्षण में भारत मदद करेगा. दोनों देशों के बीच इस संबंध में बुधवार को समझौते पर हस्ताक्षर किये गए. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के कंबोडिया में उनके समकक्ष प्राक सोखोन के साथ विस्तार से चर्चा के बाद सहमति पत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किये गए.

पूरी दुनिया में मनाया जाएगा गुरू नानक का 550 वां प्रकाश पर्व : सुषमा

दो देशों की चार दिवसीय यात्रा के अंतिम चरण में कंबोडिया पहुंची स्वराज ने द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की. गौरतलब है कि ‘प्रीह विहेर मंदिर’ के नाम पर जाना जाने वाला यह मंदिर सुदूर प्रीह विहेर में स्थित है. 11वीं ईसवी के आरंभ में इस मंदिर का निर्माण करवाया था.

नौवीं सदी से जुड़ा है मंदिर का इतिहास 
आपको बता दें कि कंबोडिया के मैदानी इलाके में स्थित यह मंदिर एक पठार के किनारे पर स्थित है. यह मंदिर भगवान शिव का है. यूनेस्को के अनुसार यह मंदिर 800 मीटर लंबी अक्ष पर पथमार्ग और सीढ़ियों की प्रणाली से जुड़ी अभ्यारण्यों की एक श्रृंखला से जुड़ा हुआ है. इस कांप्लेक्स का इतिहास 9वीं सदी से मिलता है. यहां पर एक आश्रम भी पाया गया है.

सोमवार से वियतनाम और कंबोडिया की चार दिवसीय यात्रा पर सुषमा स्वराज

यह विश्व विरासत स्थल बहुत अच्छी तरह से संरक्षित है, क्योंकि यह मुख्य रूप से दूरस्त इलाके में स्थित है. इसकी वास्तुकला असाधारण है. इस मंदिर का वास्तुशिल्प अतुलनीय हैं. इस मंदिर को खमेर वास्तुकला की उत्कृष्ट कृति बताया जाता है. इसकी निर्माण योजना, साजसज्जा और पर्यावरण के साथ सामन्जस्य अनोखा है. 

कंबोडिया के प्रधानमंत्री से भी करेंगी मुलाकात
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि सोकोन ने गर्मजोशी से स्वराज का स्वागत किया. उन्होंने कहा, ‘‘विदेश मंत्रालय में हुई प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता के दौरान दोनों मंत्रियों ने द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की.’’ स्वराज बुधवार को कंबोडिया के प्रधानमंत्री हुन सेन और सीनेट (देश की संसद) के अध्यक्ष से चुम से भी मिलेंगी.

(इनपुट भाषा से)