भारतीय मूल के छात्रों ने पौधों को पानी देने वाला स्वचालित उपकरण बनाया

सिंगापुर में जन्में छात्रों ने कहा कि उन्होंने भारत में अपने दादा-दादी के घर पर अपने इस विचार का परीक्षण किया

भारतीय मूल के छात्रों ने पौधों को पानी देने वाला स्वचालित उपकरण बनाया
उन्होंने बताया कि पानी की टंकी भरने के बाद, कनेक्टिंग पाइप को बर्तन में छोड़ दें. (फाइल फोटो)

सिंगापुरः सिंगापुर में दो भारतवंशी छात्रों ने पौधों को पानी देने वाला एक स्वचालित उपकरण विकसित किया है. इस उपकरण के जरिए आप अपनी गैर हाजिरी में भी पौधों को पानी दे सकते हैं. यहां ग्लोबल इंडियन इंटरनेशनल स्कूल में आठवीं कक्षा में पढ़ने वाले प्रत्यूष बंसल और एकास सिंह गुलाटी ने बताया कि जब वे छुट्टियों से वापस आते थे तो उन्हें अपने मुरझाए हुए या मृत पौधों को देखकर बहुत बुरा लगता था. इसके बाद उन्हें इस समस्या का हल तलाशने की ठानी.

पाकिस्‍तान का यू-टर्न: जैश-ए-मोहम्‍मद के मुख्‍यालय को बताया मदरसा, नियंत्रण लेने से भी मुकरा

सिंगापुर में जन्में छात्रों ने कहा कि उन्होंने भारत में अपने दादा-दादी के घर पर अपने इस विचार का परीक्षण किया और भूगोल के कारण इस उपकरण की दक्षता पर बहुत ज्यादा असर नहीं पड़ता है. बंसल ने पीटीआई-भाषा को बताया कि उन्होंने नमी (मॉइस्चर) सेंसर के साथ आर्द्रतामापी (हाइग्रोमीटर) संसूचक (डिक्टेक्टर) का इस्तेमाल किया जिसे दो लीटर के पानी के टैंक और जल पंप मोटर से जोड़ा गया. 

टैक्स के पैसे से अमेरिकी महिलाएं नहीं करा पाएंगी गर्भपात, ट्रंप प्रशासन ने बनाए नियम

उन्होंने बताया कि पानी की टंकी भरने के बाद, कनेक्टिंग पाइप को बर्तन में छोड़ दें. इसके बाद नमी सेंसर यह पता लगा लेगा कि पानी की कब जरूरत है. मोटर टैंक से पानी खींच लेगी और पौधों को पानी दे देगी. दोनों छात्रों को आईआईटी खगड़पुर में ‘युवा नवोन्मेष कार्यक्रम’ में अपने उपकरण का प्रदर्शन करने के लिए चयनित किया गया है.

(इनपुट भाषा)