अमेरिका: भारतीय छात्र ने साइबर हमला करने का दोष किया स्वीकार

 अमेरिका में भारतीय मूल के एक छात्र ने इंटरनेट को बाधित कर एक विश्वविद्यालय के कम्प्यूटर नेटवर्कों पर व्यापक पैमाने पर साइबर हमला करने का दोष स्वीकार कर लिया है

अमेरिका: भारतीय छात्र ने साइबर हमला करने का दोष किया स्वीकार
पारस ने नवंबर 2014 और सितंबर 2016 के बीच रटगर्स यूनिवर्सिटी के नेटवर्कों पर कई बार साइबर हमले किए.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

वॉशिंगटन: अमेरिका में भारतीय मूल के एक छात्र ने इंटरनेट को बाधित कर एक विश्वविद्यालय के कम्प्यूटर नेटवर्कों पर व्यापक पैमाने पर साइबर हमला करने का दोष स्वीकार कर लिया है. न्याय विभाग ने मंगलवार को बताया कि न्यू जर्सी के 21 वर्षीय पारस झा के साथ दो अन्य व्यक्ति पेन्सिलवेनिया के 20 वर्षीय जोसेह व्हाइट और लुइसियाना के 21 वर्षीय डाल्टन नोर्मन ने पिछले साल दो बोटनेट बनाने का दोषी स्वीकार कर लिया जिसकी मदद से ‘इंटरनेट ऑफ थिंग्स’’ उपकरणों को निशाना बनाया गया.

कार्यवाहक अमेरिकी अटॉर्नी विलियम फिट्जपैट्रिक ने बुधवार को  एक बयान में कहा, ‘‘पारस झा ने रटगर्स यूनिवर्सिटी के कम्प्यूटर तंत्र को कई बार हैक करने का आरोप स्वीकार कर लिया.

यह भी पढ़ें- रैंसमवेयर साइबर हमला: माइक्रोसॉफ्ट को NSA ने दी थी चेतावनी, 150 से अधिक देशों में 200000 यूनिट्स पर असर

’’अदालत के दस्तावेजों के अनुसार, पारस ने नवंबर 2014 और सितंबर 2016 के बीच रटगर्स यूनिवर्सिटी के नेटवर्कों पर कई बार साइबर हमले किए. इस अपराध में उसे अधिकतम 10 साल जेल की सजा और 250,000 डॉलर का जुर्माना लगाया जा सकता है. सजा पर 13 मार्च को सुनवाई की जाएगी.