INX मीडिया मामला : कार्ति चिदंबरम को बड़ा झटका, भारत-ब्रिटेन-स्पेन में 54 करोड़ की संपत्तियां कुर्क

केन्द्रीय जांच एजेंसी ने धन शोधन निवारण कानून (पीएमएलए) के तहत भारत में तमिलनाडु के कोडैकनाल और ऊटी तथा दिल्ली के जोरबाग स्थित फ्लैट को कुर्क करने के लिए अस्थायी आदेश जारी किया.

INX मीडिया मामला : कार्ति चिदंबरम को बड़ा झटका, भारत-ब्रिटेन-स्पेन में 54 करोड़ की संपत्तियां कुर्क
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली : प्रवर्तन निदेशालय ने बृहस्पतिवार को बताया कि उसने आईएनएक्स मीडिया धन शोधन से जुड़े एक मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के पुत्र कार्ति चिदंबरम की भारत, ब्रिटेन और स्पेन स्थित 54 करोड़ रुपये मूल्य की संपत्ति कुर्क की है.

केन्द्रीय जांच एजेंसी ने धन शोधन निवारण कानून (पीएमएलए) के तहत भारत में तमिलनाडु के कोडैकनाल और ऊटी तथा दिल्ली के जोरबाग स्थित फ्लैट को कुर्क करने के लिए अस्थायी आदेश जारी किया.

एजेंसी ने कहा कि उसी आदेश के तहत ब्रिटेन के समरसेट में एक कॉटेज और एक मकान तथा स्पेन के बार्सिलोना में एक टेनिस क्लब को कुर्क किया गया है. उसने कहा कि एडवांटेज स्ट्रैटेजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर चेन्नई के एक बैंक में रखी गई 90 लाख रुपये की सावधि जमा को भी कुर्क किया गया है. 

एजेंसी का कहना है कि संपत्तियां कार्ति और उनसे कथित रूप से जुड़ी कंपनी एडवांटेज स्ट्रैटेजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर हैं. उन्होंने कहा कि कुर्क की गई संपत्तियों की कुल कीमत 54 करोड़ रुपये है.

ये भी पढ़ें- एयरसेल-मैक्सिस डील: CBI और ED को कोर्ट ने फटकारा, पी चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति हैं आरोपी

उल्‍लेखनीय है कि इससे पहले दिल्ली उच्च न्यायालय ने बीते 28 सितंबर को आईएनएक्स मीडिया धनशोधन मामले में पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम की गिरफ्तारी से राहत को 25 अक्टूबर तक बढ़ा दिया था. न्यायमूर्ति मुक्ता गुप्ता ने कहा कि गिरफ्तारी पर सुरक्षा के अंतरिम आदेश 25 अक्टूबर तक जारी रहेंगे. अदालत चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें इस मामले में प्रवर्तन निदेशालय(ईडी) से गिरफ्तारी से राहत का आग्रह किया गया था.

एयरसेल-मैक्सिस मनी लांड्रिंग मामले में पी चिदंबरम से फिर पूछताछ

अदालत ने 25 जुलाई को उन्हें अंतरिम सुरक्षा प्रदान की थी, जिसे बाद में इसे बढ़ाकर 28 सितंबर कर दिया गया था. सीबीआई और ईडी इस बात की जांच कर रहे हैं कि कैसे चिंदबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने विदेशी निवेश संवर्धन बोर्ड (एफआईपीबी) से मंजूरी दिलाने का प्रबंध किया था.

ये भी पढ़ें: एयरसेल-मैक्सिस मनी लांड्रिंग मामले में पी चिदंबरम से फिर पूछताछ

कार्ति को कथित रूप से आईएनएक्स मीडिया को 2007 (उस समय पी. चिदंबरम देश के वित्त मंत्री थे) में एफआईपीबी से मंजूरी दिलाने के लिए रिश्वत लेने के आरोप में 28 फरवरी को गिरफ्तार किया गया था. बाद में कार्ति को जमानत दे दी गई थी. इस मामले में ईडी ने कार्ति के चाटर्ड अकाउंटेंड एस भास्कररमन को भी गिरफ्तार किया था. बाद में उन्हें जमानत मिल गई थी.