यूरोप, अमेरिका परमाणु हथियार और मिसाइल को नष्ट करे तभी होगी बातचीत: ईरान ने चेताया

जाजायेरी ने कहा, "ईरान की परमाणु शक्ति को लेकर अमेरिका की चिंता क्षेत्र में उनकी निराशा और हार से उपजी है."

यूरोप, अमेरिका परमाणु हथियार और मिसाइल को नष्ट करे तभी होगी बातचीत: ईरान ने चेताया
ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी. (फाइल फोटो)

तेहरान: ईरान की सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शनिवार (3 मार्च) को कहा कि ईरान तब तक अपने मिसाइल कार्यक्रम पर बातचीत नहीं करेगा, जब तक यूरोप और अमेरिका अपने परमाणु हथियारों और मिसाइलों को नष्ट नहीं कर देते. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, ईरान की सेनाओं के उपसेना प्रमुख ब्रिगेडियर जनरल मसूद जाजायेरी ने शनिवार को कहा, "अमेरिका जिस हताशा के साथ ईरान की परमाणु क्षमताओं पर प्रतिबंध लगाने की बात कह रहा है, वह सपना कभी पूरा नहीं होने वाला."

जाजायेरी ने कहा, "ईरान की परमाणु शक्ति को लेकर अमेरिका की चिंता क्षेत्र में उनकी निराशा और हार से उपजी है." इसके अलावा ईरान के रक्षा शक्ति के विकास से अमेरिका कमजोर स्थिति में आ गया है. उन्होंने अमेरिका से क्षेत्र छोड़ देने का आग्रह किया है. उन्होंने जोर देकर कहा, "ईरान के मिसाइल कार्यक्रम के लिए वार्ता की पूर्व शर्त यह है कि अमेरिका और यूरोप अपने परमाणु हथियारों और लंबी दूरी की मिसाइलों को नष्ट करें."

बेंजामिन नेतन्याहू की ईरान को चेतावनी, 'इजरायल की परीक्षा ना लें'

अमेरिका के दबाव में यूरोप ने मिसाइल कार्यक्रमों पर दोबारा चर्चा के लिए ईरान पर दबाव बढ़ाया है. ईरान ने दोहराया है कि उसके सैन्य बल रक्षा क्षमताओं को बढ़ाना जारी रखेंगे. वहीं, ईरान के विदेश मंत्री ने भी कहा है कि ईरान अपने घरेलू मामलों और रक्षात्मक नीतियों विशेष रूप से मिसाइल कार्यक्रम में किसी तरह के हस्तक्षेप को मंजूरी नहीं देगा.

अमेरिका 'मनोवैज्ञानिक युद्ध' बंद करे : ईरान
इससे पहले ईरान ने बीते 26 फरवरी को अमेरिका से तेहरान के विरुद्ध 'मनौवैज्ञानिक और प्रचार युद्ध' बंद करने के लिए कहा. ईरान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता बहराम कासमी ने कहा, "अमेरिका अपने उस नीति को बढ़ावा दे रहा है जिसके अंतर्गत वह वैश्विक समुदाय और यूरोपीय देशों को ईरान के साथ निकट संबंध बढ़ाने से रोकता है." समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, कासमी ने अपने सप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "ईरान के प्रति अमेरिका की नीति सभी को पता है और वैश्विक समुदाय अपने हितों को ध्यान में रखकर ईरान के साथ संबंध को आगे बढ़ाएगी."

कासमी ने कहा, "अमेरिका की ईरान-रोधी नीति उसके नीतियों के हार का संकेत है." उन्होंने कहा, "हम कई देशों के साथ हमारे आर्थिक संबंधों को बढ़ा रहे हैं और इस समय हम अमेरिका को सलाह देना चाहते हैं कि अपनी नीति निर्माण से इस तरह की शत्रुतापूर्ण नीति खत्म करे."