इजराइल: नेतान्याहू के खिलाफ हजारों लोगों ने किया प्रदर्शन, नियमों की उड़ाई धज्जियां

नेतान्याहू पर धोखाधड़ी, अमानत में खयानत और तीन अलग अलग मामलों में रिश्वत स्वीकार करने के आरोप हैं. उनके खिलाफ आपराधिक सुनवायी जून में शुरू हुई थी लेकिन उन्होंने पद छोड़ने से इनकार कर अपने खिलाफ लगे आरोपों को खारिज कर दिया था.

इजराइल: नेतान्याहू के खिलाफ हजारों लोगों ने किया प्रदर्शन, नियमों की उड़ाई धज्जियां

यरुशलम: हजारों इजराइली प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतान्याहू ( Benjamin Netanyahu) के खिलाफ रविवार को मध्य यरुशलम में उनके सरकारी आवास के बाहर अपना साप्ताहिक प्रदर्शन फिर से शुरू कर दिया. हालांकि पूरे देश में एक नया लॉकडाउन (Lockdown) आदेश लागू किया गया है जिसका उद्देश्य देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों पर लगाम लगाना है.

सार्वजनिक प्रदर्शन करने की इजाजत
पिछले शुक्रवार को लागू तीन सप्ताह के लॉकडाउन में एक अपवाद को शामिल किया गया था जिसमें लोगों को सार्वजनिक प्रदर्शन करने की इजाजत दी गई थी. प्रदर्शन में शामिल कई प्रदर्शनकारी हालांकि सामाजिक दूरी के नियम को नजरंदाज करते दिखे. प्रदर्शनकारियों से कहा गया था कि वे छोटे-छोटे समूहों में रहें.

हजारों लागों ने प्रदर्शनों में हिस्सा लिया
पूरे ग्रीष्मकाल में हजारों लागों ने प्रदर्शनों में हिस्सा लिया है. उनकी मांग है कि नेतान्याहू अपने पद से इस्तीफा दे दें क्योंकि उनके खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों में सुनवायी चल रही है. इजराइल के वाणिज्यिक केंद्र तेल अवीव के पास स्थित बनेई ब्राक नगर में 100 से अधिक प्रदर्शनकारी सड़कों पर उतरे और सार्वजनिक प्रार्थनाओं पर पाबंदियों के खिलाफ कचरा जलाया.

ये भी पढ़ें- चीनी हिस्से में आज होगी कोर कमांडरों की बैठक, पहली बार ये अधिकारी हो सकते हैं शामिल

प्रदर्शन यहूदी नववर्ष की छुट्टी समाप्त होने के कुछ घंटे बाद फिर से शुरू हुए. नेतान्याहू सरकार ने छुट्टी शुरू होने से कुछ ही घंटे पहले नया लॉकडाउन लागू कर दिया था. इजराइल में पहला लॉकडाउन मार्च और अप्रैल में लागू किया गया था. नेतान्याहू पर धोखाधड़ी, अमानत में खयानत और तीन अलग अलग मामलों में रिश्वत स्वीकार करने के आरोप हैं. उनके खिलाफ आपराधिक सुनवायी जून में शुरू हुई थी लेकिन उन्होंने पद छोड़ने से इनकार कर अपने खिलाफ लगे आरोपों को खारिज कर दिया था. इजराइल में अभी तक कोरोना वायरस के 1,80,000 से अधिक मामले सामने आये हैं और 1,200 से अधिक मरीजों की मौत हो गई है.(इनपुट भाषा)