इजराइल-UAE के समझौते से आगबबूला हुआ फिलिस्तीन, उठाया ये कदम

इस समझौते के तहत इजराइल को कब्जे वाले वेस्ट बैंक के बड़े हिस्सों को अपने में मिलाने की विवादास्पद योजना को रोकना होगा.

इजराइल-UAE के समझौते से आगबबूला हुआ फिलिस्तीन, उठाया ये कदम
फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास | फाइल फोटो

येरुशलम: फिलिस्तीन (Palestine) की आधिकारिक न्यूज एजेंसी ने बताया कि संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में तैनात फिलिस्तीन के राजदूत को वापस बुलाया जा रहा है. संयुक्त अरब अमीरात और इजराइल ने गुरुवार को पूर्ण राजनयिक संबंध स्थापित करने के लिए समझौते किए जिसके बाद फिलिस्तीन ने ये कदम उठाया है.

फिलिस्तीन ने समझौते पर निशाना साधते हुए इसे फिलिस्तीन की मांगों के साथ ‘विश्वासघात’ करार दिया और इसे वापस लेने की मांग की.

बता दें कि संयुक्त अरब अमीरात और इजराइल ने गुरुवार को उस समझौते के तहत पूर्ण राजनयिक संबंध स्थापित करने पर सहमति जताई जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. इस समझौते के तहत इजराइल को कब्जे वाले वेस्ट बैंक के बड़े हिस्सों को अपने में मिलाने की विवादास्पद योजना को रोकना होगा.

फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास के प्रवक्ता नबील अबू रदेनेह ने कहा कि ये समझौता ‘राजद्रोह’ के जैसा है और इसे वापस लिया जाना चाहिए.

ये भी पढ़े- डोनाल्ड ट्रंप को थी अपने बालों की चिंता, तो प्रशासन ने पानी बचाने वाला नियम ही बदल डाला

उन्होंने कहा कि यूएई को अपना ये निर्णय वापस लेना चाहिए और साथ ही उन्होंने अरब देशों से भी ‘फिलिस्तीन लोगों के अधिकारों की कीमत पर’ इसका पालन नहीं करने का आग्रह किया.

वहीं अमेरिका, इजराइल और संयुक्त अरब अमीरात का मानना है कि इससे पश्चिम एशिया क्षेत्र में शांति लाने में मदद मिलेगी.