ब्रिटेन की संसद में गूंजा कठुआ गैंगरेप केस, पाकिस्तानी मूल के सांसद ने छेड़ा मुद्दा

ब्रिटेन सरकार की ओर से बैरोनेस स्टेडमैन स्कॉट ने कहा कि भारत का मजबूत लोकतांत्रिक ढ़ाचा है जो मानवाधिकारों का आश्वासन देता है.

ब्रिटेन की संसद में गूंजा कठुआ गैंगरेप केस, पाकिस्तानी मूल के सांसद ने छेड़ा मुद्दा
कठुआ में 8 साल की बच्ची से गैंगरेप और हत्या के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान अहमदाबाद में कैंडल मार्च निकालते लोग. (Reuters/16 April, 2018)

लंदन: पाकिस्तान मूल के लॉर्ड अहमद ने ब्रिटेन की संसद के ऊपरी सदन ‘हाउस ऑफ लॉर्ड्स’ में जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले में आठ वर्षीय बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या के मामले को उठाया. भारत सरकार के कट्टर आलोचक अहमद ने मानवाधिकारों के उल्लंघनकर्ताओं को न्याय के दायरे में लाने के लिए ब्रिटेन सरकार से मामले में हस्तक्षेप करने की अपील की. ब्रिटेन सरकार की ओर से बैरोनेस स्टेडमैन स्कॉट ने कहा कि भारत का मजबूत लोकतांत्रिक ढ़ाचा है जो मानवाधिकारों का आश्वासन देता है.

उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन हम मानते हैं कि इनके आकार और विस्तार को देखते हुए संविधान में निहित इन मूलभूत अधिकारों को लागू करने में कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है.’’ स्कॉट ने कहा, ‘‘ये मामले (बलात्कार और हत्या) भयावह से कम कुछ भी नहीं है और हमारी संवेदनाएं पीड़िता के परिवार के साथ हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी स्पष्ट कर दिया है कि न्याय किया जाएगा.’’

मामले में आठ लोग गिरफ्तार
गौरतलब है कि कठुआ की आठ साल की बच्ची का 10 जनवरी को अपहरण कर लिया गया था. बच्ची को एक मंदिर में बंधक बनाकर रखा गया. इस दौरान उसे भूखा रखा गया और नशीली दवाइयां दी गई और बच्ची के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया. इसके बाद बच्ची की हत्या कर दी गई. बच्ची का शव 17 जनवरी को रसाना गांव के जंगल से मिला था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीते 13 अप्रैल को इस घटना की निंदा करते हुए कहा था कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा. इस मामले में हेड कांस्टेबल, एक सब-इंस्पेक्टर, दो विशेष पुलिस अधिकारी सहित आठ लोग गिरफ्तार किए गए और उनमें से सात के खिलाफ आरोप दायर किया गया है.