close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

केरल बाढ़: बारिश में कमी के बाद भी कम नहीं हुई हैं मुसीबतें, 13 लाख लोग बेघर

बाढ़ और भूस्खलन से आठ अगस्त के बाद से राज्य में 230 लोगों की मौत हुई है. राज्य में फिलहाल राहत शिविरों में रह रहे 13 लाख लोगों के सामने अनिश्चय की स्थिति है और उन्हें अपना भविष्य अंधकारमय नजर आ रहा है.

केरल बाढ़: बारिश में कमी के बाद भी कम नहीं हुई हैं मुसीबतें, 13 लाख लोग बेघर
राज्य में फिलहाल राहत शिविरों में रह रहे 13 लाख लोगों के सामने अनिश्चय की स्थिति है.(फाइल फोटो)

तिरूवनंतपुरम: केरल में बारिश में कमी और बाढ़ का पानी उतरने के बावजूद राज्य की मुसीबतें कम नहीं हुई हैं. बाढ़ और भूस्खलन से आठ अगस्त के बाद से राज्य में 230 लोगों की मौत हुई है. राज्य में फिलहाल राहत शिविरों में रह रहे 13 लाख लोगों के सामने अनिश्चय की स्थिति है और उन्हें अपना भविष्य अंधकारमय नजर आ रहा है. अपनी आंखों में आंसू लिए एक बुजुर्ग महिला ने कहा, “सबकुछ खत्म हो गया है  .  हम बर्बाद हो गए हैं. ” कई घर अब भी जलमग्न हैं और जो नहीं है उनमें हर कुछ टूटा-फूटा और बिखरा हुआ पड़ा है.

केरल बाढ़ : सरकार क्'€à¤¯à¥‹à¤‚ ठुकरा सकती है UAE से मिलने वाली 700 करोड़ की मदद?

पंडालम के एक राहत शिविर में रह रही सबिता ने कहा कि घर के रूप में उसके पास एक छोटी सी झोपड़ी थी और बारिश के पानी में वह भी बर्बाद हो गयी . उन्होंने कहा, “मैं अपने बेटे के साथ सोई थी, उसी दौरान कीचड़ भरा पानी मेरे घर में घुस आया. मैं अपने बच्चे को लेकर जल्दी से वहां से निकली.” चेल्लमा (75) ओणम की तैयारी में लगी थी और उसी समय यह विभीषिका आ गयी. उन्होंने कहा, “मैंने ओणम के लिए चावल, नारियल और कुछ और चीजें खरीद ली थी. कुछ भी नहीं बचा.” 

बाढ़ का पानी उतरने के बाद शुरू हुआ सफाई का सबसे मुश्किल काम
भयंकर बारिश और भीषण बाढ़ की त्रासदी झेलने के बाद केरल सरकार अब उन तमाम जगहों की सफाई के मुश्किल और महती काम में जुट गयी है जहां से बाढ़ का पानी उतर गया है. देश के सबसे दक्षिणी छोर पर स्थित इस राज्य में बाढ़ की त्रासदी ने 231 लोगों की जान ली है और बड़े पैमाने पर धनहानि पहुंचायी है.

आधिकारिक सूत्रों ने गुरुवार को बताया कि राज्य सरकार ने बाढ़ का पानी उतरने के बाद मकानों, सार्वजनिक स्थलों और अन्य जगहों पर जमा मलबे की सफाई के लिहाज से एक नियंत्रण कक्ष बनाया है. इसका लक्ष्य पूरे राज्य में सफाई प्रक्रिया की निगरानी करना है. सफाई की जिम्मेदारी स्थानीय निकायों को सौंपी गयी है.

कचरा प्रबंधन, ऑर्गेनिक कृषि और जल संसाधन प्रबंधन के क्षेत्र में काम करने वाला हरित केरल मिशन भी इस सफाई प्रक्रिया में सहायता करेगा. मिशन कल से राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में 50 पम्प सेट लगाएगा. अधिकारियों ने बताया कि राज्य की ओर से तैनात कर्मचारियों के अलावा 50,000 स्वयं सेवक भी मकानों और सार्वजनिक जगहों पर जमा बाढ़ का कचरा साफ करने में मदद करेंगे.

इनपुट भाषा से भी