अमेरिका, दक्षिण कोरिया ने बड़े सैन्य अभ्यासों को बंद करने की घोषणा की, बताई ये वजह

दक्षिण कोरियाई बयान में कहा गया है कि जियोंग ने ट्रंप-किम शिखर वार्ता में कोई समझौता ना होने पर खेद जताया.

अमेरिका, दक्षिण कोरिया ने बड़े सैन्य अभ्यासों को बंद करने की घोषणा की, बताई ये वजह
.(फाइल फोटो)

सियोल: दक्षिण कोरिया और अमेरिका वसन्त ऋतु में होने वाले अपने बड़े सैन्य अभ्यासों को बंद कर रहे हैं और उनके स्थान पर छोटे-छोटे अभ्यास करेंगे. वे इसे उत्तर कोरिया परमाणु संकट हल करने के मकसद से कूटनीतिक सहयोग की कोशिश बता रहे हैं. अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इन संयुक्त अभ्यासों पर होने वाले खर्चे के बारे में शिकायत की थी जिसके बाद दोनों देशों ने रविवार को इस फैसले की घोषणा की. गौरतलब है कि ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के बीच दूसरी शिखर वार्ता गत सप्ताह बेनतीजा रही.

इन अभ्यासों को रद्द करना उत्तर कोरिया के साथ संकट खत्म करने का प्रयास है जो इसे आक्रमण के अभ्यासों के तौर पर देखता है. हालांकि कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि इससे वियतनाम में परमाणु शिखर वार्ता नाकाम होने के मद्देनजर एक बार फिर तनाव बढ़ने की चिंताओं के बीच दोनों देशों की सैन्य कार्रवाई की तत्परता कमजोर होगी.

पेंटागन ने एक विज्ञप्ति में कहा कि अमेरिका और दक्षिण कोरिया के रक्षा प्रमुखों ने अभ्यासों को खत्म करने का फैसला किया है. बयान में कहा गया है कि अमेरिका के कार्यवाहक रक्षा मंत्री पैट्रिक शानाहन और दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्री जियोंग कियोंग-डू ने स्पष्ट कर दिया कि हमारा प्रशिक्षण कार्यक्रम अपनाने का गठबंधन का फैसला तनाव कम करने की इच्छा और कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण को हासिल करने के हमारे कूटनीतिक प्रयासों का समर्थन करना दिखाता है.

सियोल के रक्षा मंत्रालय ने भी ऐसा ही बयान जारी किया है. दक्षिण कोरियाई बयान में कहा गया है कि जियोंग ने ट्रंप-किम शिखर वार्ता में कोई समझौता ना होने पर खेद जताया लेकिन साथ ही उम्मीद जताई कि वाशिंगटन और प्योंगयांग बातचीत जारी रखेंगे.