मालदीव: पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद रिहा, जश्न मना रहे समर्थकों पर पुलिस ने बरसाई लाठियां

मालदीव की शीर्ष अदालत ने देश के नौ महत्वपूर्ण राजनीतिक बंदियों को रिहा करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने यह आदेश देकर निर्वासित पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद की सत्ता में वापसी का रास्ता साफ कर दिया है.

मालदीव: पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद रिहा, जश्न मना रहे समर्थकों पर पुलिस ने बरसाई लाठियां
मोहम्मद नशीद ने ट्वीट कर शीर्ष अदालत के फैसले का स्वागत किया है (Reuters)

माले: मालदीव की शीर्ष अदालत ने देश के नौ महत्वपूर्ण राजनीतिक बंदियों को रिहा करने का आदेश दिया है. कोर्ट ने यह आदेश देकर निर्वासित पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद की सत्ता में वापसी का रास्ता साफ कर दिया है. बताया जा रहा है कि शीर्ष अदालत के इस आदेश के बाद नशीद अब राष्ट्रपति चुनाव लड़ सकते हैं. संयुक्त विपक्ष ने अदालत के इस फैसले का स्वागत किया है. नौ राजनीतिक बंदियों की रिहाई के बाद विपक्ष को संसद में बहुमत प्राप्त हो जाएगा और ऐसे में वह मौजूदा राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन से पद छोड़ने की मांग कर रहा है. विपक्ष ने एक बयान में कहा, ‘‘सुप्रीम कोर्ट का फैसला प्रभावी तौर पर राष्ट्रपति यामीन के मनमाने शासन को समाप्त करता है.’’

बिगड़ी देश की छवि
यामीन के शासनकाल में विरोधियों के खिलाफ की गई कार्रवाई ने पर्यटन स्थल के रूप में द्वीप देश की छवि को बहुत खराब किया है. राष्ट्रपति ने अपने शासनकाल में अपने लगभग सभी प्रतिद्वंद्वियों को जेल भेज दिया है. इसी क्रम में आतंकवाद के आरोपों में 13 वर्ष कारावास की सजा सुनाए जाने के बाद पूर्व राष्ट्रपति नशीद स्व-निर्वासन में रह रहे हैं.

मालदीव के अखबार ने भारत को बताया 'सबसे बड़ा दुश्मन', कहा- 'PM मोदी मुस्लिम विरोधी'

जश्न मनाते नशीद के समर्थकों पर लाठीचार्च
सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद मोहम्मद नशीद के समर्थक जश्न मनाने के लिए सड़कों पर निकल आए. पुलिस ने इन समर्थकों पर लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले भी छोड़े. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो राष्ट्रपति यमीन ने देश के पुलिस प्रमुख को पद से हटा दिया गया है.

भारत-मालदीव के रिश्‍तों में बढ़ती दरार : भारतीय राजदूत से मिलने पर तीन अधिकारी सस्पेंड

नशीद ने किया फैसले का स्वागत
मोहम्मद नशीद ने ट्वीट कर शीर्ष अदालत के फैसले का स्वागत किया है. उन्होंने ट्वीट में लिखा, 'मैं सभी राजनीतिक बंदियों की तत्काल रिहाई, नागरिक और राजनीतिक अधिकारों के बहाली के सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करता हूं. राष्ट्रपति अब्दुल्ला यमीन अनिवार्य रूप से इस फैसले को मानें और इस्तीफा दें. मैं सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि वे संघर्ष से बचें और शांतिपूर्ण राजनीतिक क्रियाकलाप में हिस्सा लें.'

(इनपुट एजेंसी से भी)