मेट्रो में महिला का वीडियो बनाते रंगेहाथ पकड़ा गया ये शख्स, Watch Video

मेट्रो में महिला का वीडियो बनाते रंगेहाथ पकड़ा गया ये शख्स, Watch Video
मेट्रो में महिला का वीडियो बनाते रंगेहाथ पकड़ा गया ये शख्स (फोटोः फेसबुक)

नई दिल्लीः मेट्रो ट्रेन में लोगों को अपने-अपने मोबाइल फोन में बिजी रहते देखना आम बात है. लेकिन कुछ लोग केवल दिखाने के लिए मोबाइल हाथ में लिए रहते है, असल में वो कर कुछ और ही रहे होते है. जी हां कई बार लोग अपना फोन इस तरह से हाथ में पकड़ेगें आपको दिखेंगे कि मानों वो फोन में कुछ देख रहे हों, लेकिन उनके दिमाग में कुछ और ही चल रहा होता है. ऐसी ही कुंठित मानसिकता से ग्रस्त एक शख्स का वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. ये शख्स सिंगापुर मेट्रो ट्रेन में एक महिला का वीडियो बना रहा है. आपको बता दें कि इस महिला ने इस व्यक्ति को वीडियो बनाते हुए रंगेहाथ पकड़ा लिया.

सिंगापुर में रहने वाली उमा माहेश्वरी ने अपने फेसबुक पर एक पोस्ट में वीडियो बनाने वाले व्यक्ति की फोटो और वीडियो शेयर की. जिसके बाद यह पोस्ट लगातार वायरल हो रहा है. उमा ने अपने फेसबुक पर लिखा कि 13 मई की शाम को जब वह आउट्रम से हार्बरफ्रंट अपनी दोस्त से मिलने जा रही थी तभी अचानक एक व्यक्ति उसके सामने वाली सीट पर आकर बैठ गया. उमा ने देखा कि सामने बैठा व्यक्ति अपना फोन निकालकर जरूरत से ज्यादा ऊंचाई पर हाथ से पकड़े हुए है. शक होने पर उन्होंने व्यक्ति के ठीक पीछे लगे शीशे पर गौर किया, तब ध्यान से देखने पर उन्हें पता चला कि वह उनका वीडियो बना रहा था. 

 

 

उमा ने लिखा कि सबूत के लिए उन्होंने भी अपने फोन से उसका वीडियो बनाना शुरू कर दिया, इसके बाद उन्होंने मेट्रो प्रशासन को इसकी सूचना दी. उमा के लिखा कि उनके शिकायत करने के कुछ ही मिनट में सिंगापुर पुलिस और एमआरटी मेट्रो स्टेशन के कर्मचारियों ने उनकी मदद की.

अपना गुस्सा जाहिर करते हुए उमा ने बताया कि पकड़े जाने पर वह व्यक्ति काफी मिन्नतें कर रहा था और यहां तक कि उसने यह भी कह दिया कि वह उसके बहन के जैसी हैं. उन्होंने सभी महिलाओं को जागरुक करते हुए कहा कि सार्वजनिक जगहों पर चौकन्नी रहें और कभी भी ऐसी स्थिति आने पर बोलने से न हिचकें. उमा ने कहा कि अपने आप को परिस्थितियों का दास न बनाएं.

स्थानीय मीडिया की खबरों के मुताबिक, सिंगापुर पुलिस ने बयान में बताया कि पुलिस को मदद के लिए फोन किया गया था. पुलिस ने उत्पीड़न से रोकथाम कानून के तहत केस दर्ज कर लिया है और मामले की जांच जारी है. उमा ने दावा किया कि व्यक्ति के मोबाइल फोन में ऐसे ही और कई वीडियो भी मिले हैं. अगर उमा का दावा सही पाया गया तो सिंगापुर के कानून के हिसाब से उस व्यक्ति को महिला का अपमान करने या इसके प्रयास के लिए अधिकतम एक साल की जेल हो सकती है.