close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

मौलाना फजलुर का अल्टीमेटम- इमरान 2 दिन में इस्तीफा दो, वरना अल्लाह की कसम, जंग छेड़ देंगे

मौलाना ने कहा कि आवाम इस हुकूमत से परेशान हैं. हम इसलिए आए हैं कि इस हुकूमत का खात्मा हो. अल्लाह की कसम हमारे बदन पर कपड़े नहीं है, कफन है. हम जान देने के लिए तैयार हैं. 

मौलाना फजलुर का अल्टीमेटम- इमरान 2 दिन में इस्तीफा दो, वरना अल्लाह की कसम, जंग छेड़ देंगे

नई दिल्ली: पाकिस्तान में इमरान सरकार की उल्टी गिनती शुरू हो चुकी है. इमरान खान का इस्तीफा मांगने के लिए जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फजल (जेयूआई-एफ) के नेता मौलाना फजलुर रहमान के नेतृत्व में विपक्ष का 'आजादी मार्च' इस्लामाबाद पहुंच गया है.  राजधानी में जुलूस की अगुआई कर रहे रहमान ने कहा कि उनकी पार्टी द्वारा पीटीआई सरकार को दिया गया समय खत्म हो गया है. मौलाना ने कहा कि ये हुकूमत जाली हुकूमत है. इसका जनादेश आवाम ने तो नहीं दिया. ये तो फौज ने लाया है वज़ीरे आज़म को. इसको खत्म करने के लिए हम यहां आए हैं.

हमारी ये मांग है कि ये मौजूदा हुकूमत जाली है. हमारा आइन बिल्कुल आज़ाद नहीं है. हमारे मार्च का नाम ही आज़ादी मार्च है ना. हम इस्लाम और जम्हूरियत को आज़ाद कराना है. जब तक ये आज़ाद ना हो जाए हम वारस नहीं जाएंगे. पहले भी बहुत कुछ होता रहा है लेकिन इस हुकूमत ने दिवालिया कर के रख दिया है. इस्लाम के खिलाफ बात करने वालों को खुली इजाज़त है.

इस्लाम का काम करने वालों पर पाबंदी है. इस हुकूमत को आवाम ने नहीं चुना बल्कि इसको ज़ोर से लाया गया है. हुकूमत जो लाई गई है जबरन यहां पर, इसी हुकूमत की वजह से बेदमनी और महंगाई है. आवाम इस हुकूमत से परेशान हैं. हम इसलिए आए हैं कि इस हुकूमत का खात्मा हो. अल्लाह की कसम हमारे बदन पर कपड़े नहीं है, कफन है. हम जान देने के लिए तैयार हैं. दुनिया सुन लो. जब तक कायदे जमीयत हुकुम नहीं करेगा हम यहां से एक कदम भी आगे नहीं जाएंगे.

उन्होंने आज न्यूज को बताया, "हमें आखिर में उनसे (सरकार) इस्तीफा लेना है. और हम इसके लिए जंग करके रहेंगे."धरने का संकेत देते हुए उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इस्लामाबाद में बैठकर सरकार को दो-तीन दिन का समय देना चाहती है. जबकि प्रधानमंत्री इमरान खान ने साफ कर दिया है कि उनके इस्तीफा देने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता. रहमान ने कहा कि इमरान सरकार को भ्रष्ट तरीके से सत्तारूढ़ कराया गया था.

इसे जनादेश नहीं हासिल है. उन्होंने कहा कि उनकी आजादी मार्च के बाद अगर पीटीआई सरकार ने इस्तीफा देने से इंकार कर दिया तो देश में अराजकता का माहौल पैदा हो जाएगा. डॉन न्यूज की रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) चेयरमैन बिलावल भुट्टो जरदारी ने गुरुवार सुबह जूलूस वालों से मुलाकात कर उन्हें संबोधित किया.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री इमरान खान को यह संदेश देने के लिए सभी विपक्षी दल एक मंच पर आ गए हैं कि उनकी सरकार के गिरने का समय आ गया है. विपक्ष प्रधानमंत्री इमरान खान की पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सरकार को बर्खास्त करने की मांग कर रहा है. 

Input - Anas