close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इमरान खान के बचाव में सेना ने संभाला मोर्चा, सभी रास्ते बंद, गोलियां बरसाने को तैयार हेलीकॉप्टर

बताया जा रहा है कि सरकार 'आजादी मार्च' को कुचलने की भी तैयारी कर चुकी है. अगर प्रदर्शनकारी आगे बढ़ते हैं तो आसमान से गोलियां बरसाने का भी आदेश सरकार की तरफ से दे दिया गया है.

इमरान खान के बचाव में सेना ने संभाला मोर्चा, सभी रास्ते बंद, गोलियां बरसाने को तैयार हेलीकॉप्टर
बताया जा रहा है कि सरकार 'आजादी मार्च' को कुचलने की भी तैयारी कर चुकी है.

नई दिल्ली: इमरान खान के इस्तीफे की मांग को लेकर 48 घंटे का अल्टीमेटम आज खत्म हो गया है. सरकार विरोधी 'आजादी मार्च' की अगुवाई कर रहे जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फजल (जेयूआई-एफ) के प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान जहां पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान के इस्तीफे, देश में नया चुनाव और एनआरओ (नेशनल रेकन्सिलिएशन आर्डिनेंस) पर अड़े हैं, वहीं सरकार ने इन मांगों को खारिज कर दिया है. इमरान खान प्रदर्शकारियों से इस कदर डरे हुए हैं कि उन्होंने गृह मंत्रालय को प्रदर्शकारियों से किसी भी तरह निपटने के निर्देश दिए हैं.

बताया जा रहा है कि सरकार 'आजादी मार्च' को कुचलने की भी तैयारी कर चुकी है. सरकार ने सभी प्रदर्शनकारी को चेतावनी देते हुए कहा कि आप कोई भी ऐसा कदम नहीं उठाएंगे जिससे देश की सुरक्षा को खतरा पैदा हो.प्रदर्शनकारी संवेदनशील रेड जोन की दिशा में आगे न बढ़े इसलिए सरकार ने सभी रास्ते बंद कर दिए हैं. 

कहा ये भी जा रहा है कि अगर प्रदर्शनकारी आगे बढ़ते हैं तो आसमान से गोलियां बरसाने का भी आदेश सरकार की तरफ से दे दिया गया है. इसके लिए सुरक्षाबलों ने तमाम बंदोबस्त कर लिए हैं. उधर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (PPP) के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी ने इमरान खान को तानाशाह बताते हुए कहा है कि उन्हें पीएम की कुर्सी छोड़ देनी चाहिए. 

रक्षा मंत्री ने कहा कि आजादी मार्च को लेकर सरकार बिल्कुल भी चिंतित नहीं
रक्षा मंत्री ने कहा कि आजादी मार्च को लेकर सरकार बिल्कुल भी चिंतित नहीं है, लेकिन विपक्षी नेताओं द्वारा 'राष्ट्रीय संस्थानों को अपमानित' करने वाले भाषण दुर्भाग्यपूर्ण हैं. उन्होंने कहा कि देश के लिए बलिदान देने वाली संस्थाओं के खिलाफ भाषण 'देश के साथ दुश्मनी' के समान होगा. खटक ने स्पष्ट रूप से कहा कि खान किसी भी तरह से इस्तीफा नहीं देंगे. 

जेयूआई-एफ द्वारा आहूत 'आजादी मार्च' ने 31 अक्टूबर की रात इस्लामाबाद में प्रवेश किया
ड़ॉन न्यूज के मुताबिक, उन्होंने कहा कि सरकारविपक्ष की धमकियों और दबाव की रणनीति के आगे नहीं झुकेगी. मंत्री ने कहा कि सरकार विपक्षी दलों के साथ बातचीत करने के लिए तैयार है, लेकिन साथ ही चेतावनी दी कि इस्लामाबाद प्रशासन के साथ किए गए समझौते का उल्लंघन होने पर कानून अपना काम करेगा. पाकिस्तान-तहरीक-ए-इंसाफ सरकार को गिराने के लिए जेयूआई-एफ द्वारा आहूत 'आजादी मार्च' ने 31 अक्टूबर की रात इस्लामाबाद में प्रवेश किया.