close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारत- रूस शिखर सम्मेलन में संबंधों को और बेहतर करने पर पुतिन-मोदी सहमत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने गुरुवार को सालाना भारत- रूस शिखर सम्मेलन के दौरान बैठक की। इस बैठक में पहले से ही गहरे संबंधों को और मजबूती प्रदान करने पर जोर दिया गया। दो दिवसीय यात्रा पर यहां पहुंचे मोदी ने 16वें भारत-रूस शिखर सम्मेलन के दौरान क्रेमलिन में रूसी राष्ट्रपति पुतिन के साथ अकेले में (रेसट्रिक्टेड) बातचीत की ।

भारत- रूस शिखर सम्मेलन में संबंधों को और बेहतर करने पर पुतिन-मोदी सहमत

मॉस्को: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन ने गुरुवार को सालाना भारत- रूस शिखर सम्मेलन के दौरान बैठक की। इस बैठक में पहले से ही गहरे संबंधों को और मजबूती प्रदान करने पर जोर दिया गया। दो दिवसीय यात्रा पर यहां पहुंचे मोदी ने 16वें भारत-रूस शिखर सम्मेलन के दौरान क्रेमलिन में रूसी राष्ट्रपति पुतिन के साथ अकेले में (रेसट्रिक्टेड) बातचीत की ।

इस बैठक के बाद शिष्टमंडल स्तर की वार्ता हुई। क्रेमलिन में दोनों नेताओं की बैठक के चित्रों के साथ विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट किया, ‘क्रेमलिन से , प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने 16वें वाषिर्क शिखर सम्मेलन की शुरूआत सीधी बातचीत से की ।’

‘खास और विशेष रणनीतिक संबंधों’ वाले दोनों देशों के रिश्तों के तहत वर्ष 2000 से बारी-बारी से एक वर्ष मास्को में और एक वर्ष और नयी दिल्ली में यह द्विपक्षीय वार्ता होती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सम्मान में रूसी राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन ने कल रात एक रात्रिभोज की मेजबानी की जहां दोनों नेताओं ने परस्पर हितों के मुद्दों पर चर्चा की।

बैठक के बाद मोदी ने ट्वीट किया था, ‘ राष्ट्रपति पुतिन से मिला और भारत-रूस संबंधों पर चर्चा की । मुलाकात सार्थक रही ।’ मोदी सालाना शिखर वार्ता के लिए मास्को पहुंचे जहां उनका शानदार स्वागत किया गया। पुतिन ने मोदी के लिए व्यक्तिगत रात्रिभोज का आयोजन भी किया। प्रधानमंत्री की इस यात्रा के दौरान दोनों पक्षों के बीच कई समझौतों पर हस्ताक्षर किये जाने की उम्मीद है जिसमें रक्षा, परमाणु उर्जा, हाइड्रोकार्बन, कारोबार समेत कई अन्य क्षेत्र शामिल हैं।

परमाणु उर्जा के क्षेत्र में, समझा जाता है कि भारत आंध्रप्रदेश में कुडणकुलम परमाणु उर्जा संयंत्र की पांचवी और छठी यूनिटों की स्थापना के लिए एक स्थल की पेशकश करेगा। समझा जाता है कि दोनों देश कुछ रक्षा सौदों को भी अंतिम रूप देंगे। मोदी और पुतिन दूसरी बार शिखर सम्मेलन में मिल रहे हैं । 15वें रूस.पुतिन शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए पुतिन नयी दिल्ली आए थे। दोनों देशों के बीच अभी 10 अरब डालर का द्विपक्षीय कारोबार है और दोनों देश अगले 10 वषरे में इसे 30 अरब डालर से अधिक ले जाना चाहते हैं।