close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

म्यांमार: भूस्खलन से मरने वालों की संख्या 59 हुई, 38,000 लोग हुए बेघर

 आपातकालीन टीमें सोमवार को अभी भी मलबे के बीच संभावित रूप से बचे लोगों का पता लगाने के लिए मशक्कत कर रही हैं.

म्यांमार: भूस्खलन से मरने वालों की संख्या 59 हुई,  38,000 लोग हुए बेघर
फाइल फोटो-Reuters

यांगून: म्यांमार के एक शहर में भूस्खलन के कारण हुए हादसों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 59 हो गई है. भूस्खलन से कई घर जमींदोज हो गए. आपातकालीन टीमें सोमवार को अभी भी मलबे के बीच संभावित रूप से बचे लोगों का पता लगाने के लिए मशक्कत कर रही हैं. समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के मुताबिक, भारी बारिश की वजह से मॉन राज्य के पौंग कस्बे में शुक्रवार को भूस्खलन आया, जहां करीब 25 इमारतें जमींदोज हो गईं. चट्टानों के मलबे व बारिश से लोग, घर व वाहन बह गए. समाचार एजेंसी सिन्हुआ से म्यांमार के एक फायर सर्विसेज डिपार्टमेंट के एक अधिकारी ने कहा, "बचाव कार्य अभी भी जारी है और सभी पीड़ितों के शवों के बरामद होने तक जारी रहेगा."

अधिकारी ने कहा कि एहतियाती उपाय भी किए जाएंगे, क्योंकि इस इलाके में ज्यादा भूस्खलन होने की आशंका है. रविवार को क्षेत्र में बारिश जारी रहने के कारण बचाव प्रयासों में बाधा आई. बचाव दल और सैन्यकर्मी उत्खनन मशीनों और अन्य भारी मशीनरी के सहयोग से खोज अभियान जारी रखे हुए हैं.

बचाव दल और सैन्यकर्मी भूस्खलन से कटे हुए अन्य गांवों तक पहुंचने में कामयाब रहे और प्रभावित लोगों के बीच भोजन, पानी और अन्य आपातकालीन चीजों को वितरित किया. प्रत्यक्षदर्शियों और सुरक्षित बचे लोगों ने एफे को बताया कि मलबे में लगभग 100 लोग दबे हो सकते हैं, हालांकि अधिकारियों ने इस आंकड़े की पुष्टि नहीं की है.

संयुक्त राष्ट्र के अनुसार, मानसून की भारी बारिश के कारण देशभर में लगभग 38,000 लोग अपने घर खाली कर सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए मजबूर हो गए हैं.