close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

NASA की पड़ताल में मंगल पर बालू के संभावित स्रोत का पता चला

नासा के अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि दक्षिणी उच्चस्थल और उत्तरी निम्नस्थल की सीमा के समीप एक अर्धवृताकार गड्डे में काली परतों के क्षरण से यह काली वस्तु निकल रही है. 

NASA की पड़ताल में मंगल पर बालू के संभावित स्रोत का पता चला
नासा के मंगल टोही यान (एमआरओ) ने बुधवार को इस ग्रह पर एक ऐसे संभावित स्थान की तस्वीर भेजी जहां बालू के कण बन रहे हैं. (FILE)

वाशिंगटन : नासा के मंगल टोही यान (एमआरओ) ने बुधवार को इस ग्रह पर एक ऐसे संभावित स्थान की तस्वीर भेजी जहां बालू के कण बन रहे हैं. नासा के अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि दक्षिणी उच्चस्थल और उत्तरी निम्नस्थल की सीमा के समीप एक अर्धवृताकार गड्डे में काली परतों के क्षरण से यह काली वस्तु निकल रही है. नीचे की तरफ झुकी धारियों से इस धारणा को बल मिलता है कि काला निक्षेपण उसी स्थान पर बना है न कि हवा द्वारा कहीं बाहर से लाया गया है.

दरअसल बालू के जिन कणों से धरती और मंगल पर टिब्बा बनता है वे अपनी यात्रा के तौर तरीके के लिहाज से बड़े खतरनाक होते हैं. हवा से लाया गया बालू सतह से टकरा कर और इधर -उधर हो कर टिब्बा (ढेर) की शक्ल ले लेता है.हमें दरसअल आज मंगल पर जो बालू के टिब्बे नजर आता है उसके लिए जरुरी है कि जो बालू कण कालातीत में नष्ट हो गये उसके स्थान की फिर से आपूर्ति हो. वैसे मंगल पर बालू के आधुनिक स्रोत ज्ञात नहीं हैं.

Tags: