close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जिंदगी और मौत से जूझ रहे नवाज; PAK के डॉक्टरों ने खड़े किए हाथ, अब बचा एक ही चारा

डॉक्टरों ने उन्हें स्पष्ट रूप से बताया कि वे पाकिस्तान में उपलब्ध सभी चिकित्सा उपचारों (विकल्पों) को करा चुके हैं और अब एक ही विकल्प है. "

जिंदगी और मौत से जूझ रहे नवाज; PAK के डॉक्टरों ने खड़े किए हाथ, अब बचा एक ही चारा
.(फाइल फोटो)

लाहौर: पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने कथित तौर पर डॉक्टरों की सलाह और परिवार के मनाने पर विदेश जाकर इलाज कराने के लिए राजी हो गए हैं.  एक पारिवारिक सूत्र ने गुरुवार को डॉन न्यूज को बताया, "शरीफ आखिरकार लंदन जाने को तैयार हो गए, क्योंकि डॉक्टरों ने उन्हें स्पष्ट रूप से बताया कि वे पाकिस्तान में उपलब्ध सभी चिकित्सा उपचारों (विकल्पों) को करा चुके हैं और विदेश जाना एकमात्र विकल्प है. "

सूत्र ने कहा कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) ने इमरान खान सरकार के साथ शरीफ की विदेश यात्रा को लेकर डॉक्टरों की सिफारिशों को साझा किया था. उसने कहा, "डॉक्टरों की रिपोर्ट को ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा एक या दो दिन में शरीफ का नाम एक्जिट कंट्रोल लिस्ट (ईसीएल) से हटाने की संभावना है, जिससे वह देश से बाहर जा सकेंगे. "

सूत्र ने आगे कहा कि अगर शरीफ का नाम ईसीएल से हटा दिया गया तो वह इस हफ्ते लंदन के लिए रवाना हो सकते हैं. उसने कहा, "हालांकि शरीफ मेडिकल अस्पताल के मेडिकल बोर्ड की सिफारिशों और शरीफ मेडिकल सिटी के चिकित्सकों और अपने परिवार के सदस्यों के 'अनुरोध' के बाद भी विदेश जाने के लिए तैयार नहीं थे, लेकिन आखिरकार तैयार हो गए. "

वर्तमान में, शरीफ की प्लेटलेट गिरकर 24,000 तक पहुंच गई है. डॉक्टरों के अनुसार, (हवाई) यात्रा के लिए एक मरीज को फिट घोषित करने के लिए 50,000 प्लेटलेट्स और उससे ज्यादा की आवश्यकता होती है. 

यह पूछे जाने पर कि हवाई यात्रा के लिए शरीफ की प्लेटलेट 50,000 और उससे ज्यादा होनी चाहिए तो सूत्र ने डॉन न्यूज को बताया कि डॉक्टर उन्हें प्लेटलेट्स बढ़ाने के लिए उच्च खुराक दे सकते हैं, जिससे उन्हें यात्रा शुरू करने में मदद मिलेगी. 

सर्विसेज इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज प्रिंसिपल प्रोफेसर महमूद अयाज के नेतृत्व वाले मेडिकल बोर्ड ने पहले ही शरीफ की स्वास्थ्य जटिलताओं के मद्देनजर विदेश में उनका इलाज कराने की सिफारिश की है.