अपने नागरिकों को बचाने के लिए नेपाल ने लगा दी जान की बाजी, चीन से 175 लोगों को निकाला

सभी निकाले गए लोगों को अलग जगह पर रखा जाएगा और कम से कम दो हफ्तों तक इनमें कोरोनावायरस के लक्षणों की निगरानी की जाएगी. 

अपने नागरिकों को बचाने के लिए नेपाल ने लगा दी जान की बाजी, चीन से 175 लोगों को निकाला
.(फोटो- Reuters)

काठमांडू: नेपाल ने रविवार को चीन के शहर वुहान से अपने 175 नागरिकों को निकाल लिया. चीन के वुहान में घातक कोरोना वायरस(सीओवीआईडी-19) का प्रकोप है . इन नागरिकों में ज्यादातर छात्र हैं. समाचार एजेंसी एफे से नेपाल एयरलाइंस के निदेशक कैप्टन दीपू जवरचन ने कहा कि एयरबस ए330 विमान 134 पुरुषों व 41 महिलाओं के साथ काठमांडू के त्रिभुवन अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर दोपहर बाद उतरा. इसमें से 170 छात्र हैं. सभी निकाले गए लोगों को अलग जगह पर रखा जाएगा और कम से कम दो हफ्तों तक इनमें कोरोनावायरस के लक्षणों की निगरानी की जाएगी.

जवरचन के अनुसार, विमान ने दो कैप्टन, आठ फ्लाइट अटेंनडेंट, चार मेडिकल रिप्रजेंटेटिव, एक इंजीनियर व दूसरे तकनीकी कर्मियों ने साथ शनिवार को दोपहर बाद चीन के लिए उड़ान भरा था. उन्होंने कहा कि 48 घंटे तक खड़े रहे विमान के केबिन की गहन सफाई होगी और वह कीटाणुशोधन की प्रक्रिया से गुजरेगा.

यह भी देखें:-

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक प्रवक्ता सागर दहाल ने एफे से कहा कि कॉकपिट क्रू को एक हफ्ते ऑइसोलेशन में रहने के बाद ड्यूटी पर लौटने की इजाजत दी जाएगी, बशर्ते उनमें कोई लक्षण नहीं दिखाई दें.