डोनाल्‍ड ट्रंप और किम जोंग-उन की दोस्‍ती और 'प्रेम' पत्र से खुलने जा रहे बड़े राज

डोनाल्‍ड ट्रंप ने कहा था-'किम ने मुझे पत्र लिखे और वो बेहद खास हैं. हमें एक दूसरे से प्रेम हो गया.' 

डोनाल्‍ड ट्रंप और किम जोंग-उन की दोस्‍ती और 'प्रेम' पत्र से खुलने जा रहे बड़े राज
किम जोंग उन और डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)

न्यूयॉर्क: अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने भरसक कोशिश की, कि उत्तर कोरिया परमाणु हथियार (Nuclear weapons) न विकसित कर पाए. इसके लिए उन्होंने खुद आगे बढ़कर उत्तर कोरिया (North Korea) के राष्ट्रपति किम जोंग उन (Kim Jong Un) से तीन-तीन बार मुलाकात की, लेकिन उत्तर कोरिया अपने इरादों से पीछे नहीं हटा. हालांकि दोनों नेताओं के बीच हुई मुलाकातों ने दुनिया भर की मीडिया में खूब सुर्खियां बटोरीं. अब दोनों की मुलाकातों और बातचीत पर आधारित किताब 'रेज' आ रही है, जिसमें दोनों के बीच क्या बातें हुई, इन सबका जिक्र इस किताब में होगा.

किताब को प्रकाशित करने वाली पब्लिशिंग फर्म ने दावा किया है कि किम जोंग उन को ट्रंप के साथ मुलाकातें किसी 'फंतासी फिल्म' सरीखी लगी. इस किताब के पहले हिस्से का नाम 'फीयर' थी, और पहली मुलाकात के बाद की बातें 'रेज' नाम से छपेंगी.

ये किताब 15 सितंबर को लांच की जाएंगी, जिनमें ट्रंप और किम के बीच लिखे गए 25 पत्र भी शामिल किए गए हैं. दोनों नेताओं के बीच रिश्तों की वजह से वॉशिंगटन और प्योंगयांग में एक सहमति बनने की उम्मीद थी, जो एक दूसरे को बेइज्‍जत करने, युद्ध की धमकी के बाद ट्रंप की ओर से प्रेम के इजहार में बदल गई. 

खोजी पत्रकार बॉब वुडवर्ड (Bob Woodward) ने इस किताब को लिखा है. उन्होंने कहा कि दोनों नेताओं के बीच क्या बातें हुईं, उन्हें वो किताब के प्रकाशित होने से पहले नहीं बता सकते. हालांकि प्रकाशक साइमन एंड शुस्टर (Simon and Schuster) ने अमेजन पर किताब के पेज पर लिखा है कि इन पत्रों में किम जोंग उन ने दोनों नेताओं के बीच आपसी समझ को 'फंतासी फिल्म' सरीखा करार दिया है. जिसमें दोनों नेताओं ने बेहद अहम मुद्दे पर बातचीत की. 

पहली मुलाकात
बता दें कि डोनाल्ड ट्रंप और किम जोंग उन ने सबसे पहले सिंगापुर (Singapore Summit) में जून 2018 में मुलाकात की थी, जिसमें उत्तर कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण पर थोड़ी सहमति बनी थी. इस मुलाकात के कुछ महीनों के बाद ट्रंप ने एक रैली में कहा कि दोनों लोगों में एक तरह का प्रेम विकसित हो गया हो गया था. उन्होंने कहा, 'किम ने मुझे पत्र लिखे और वो बेहद खास हैं. हमें एक दूसरे से प्रेम हो गया.' हालांकि फरवरी 2019 में दोनों नेताओं की हनोई (Hanoi Summit) में मुलाकात के बाद ये बातचीत किसी मुकाम पर नहीं पहुंची और उत्तर कोरिया पर अमेरिकी प्रतिबंध भी जारी हैं. ये अलग बात है कि दोनों नेता तीसरी बार भी मिले और वो जगह थी दक्षिण कोरिया और उत्तर कोरिया के बीच की जगह, जहां किसी आम नागरिक के प्रवेश की मनाही है. इस दौरान डोनाल्ड ट्रंप ने उत्तर कोरियाई धरती पर कदम भी रखा और ऐसा करने वाले वो पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बने थे.

वुडवर्ड वॉशिंगटन पोस्ट के रिपोर्टर रहे हैं और उनकी वॉटरगेट स्कैंडल (Watergate Scandal) पर चर्चित किताब ने खूब चर्चा पाई थी. इस किताब में हुए खुलासों के बाद साल 1974 में रिचर्ड निक्सन (Richard Nixon) को राष्ट्रपति पद से इस्तीफा देने पर मजबूर होना पड़ा था. 

डोनाल्ड ट्रंप इस सिरीज के पहले हिस्से 'फीयर' में छपी कई बातों को खारिज कर चुके हैं, जिसमें उनके वॉइट हाउस में रहते हुए कई विवादों का जिक्र था. इस किताब की पहले हफ्ते में ही 1.1 मिलियन यानी 11 लाख प्रतियां बिकी थीं. ट्रंप ने इस किताब को 'जोक' और 'स्कैम' करार दिया था और कहा था कि वुडवर्ड ने 'फीयर' को लेकर उनसे कोई बातचीत नहीं की थी और न ही उनका इंटरव्यू लिया था. लेकिन इस साल जनवरी में ट्रंप ने ये कहा था कि वो वुडवर्ड की आने वाली किताब को लेकर उनसे बातचीत करेंगे. और वुडवर्ड के साथ बैठेंगे.