close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने छापा कश्मीर पर पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को दर्शाता विज्ञपान

इस विज्ञापन में पाकिस्तान का तो प्रचार किया गया है जबकि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (Pok) में ईसाईयों, हिंदुओं, अहमदियों के मानवाधिकार उल्लंघन पर चुप्पी साध ली गई है. 

न्यूयॉर्क टाइम्स ने छापा कश्मीर पर पाकिस्तानी प्रोपेगेंडा को दर्शाता विज्ञपान
(प्रतीकात्मक फोटो)

न्यूयॉर्क: अमेरिका के प्रमख अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स (New York Times) ने कश्मीर (Jammu and Kashmir) पर पाकिस्तानी लाइन को दर्शाता तथ्यात्मक रूप से एक गलत विज्ञापन छापा है. इस विज्ञापन में पाकिस्तान का तो प्रचार किया गया है जबकि पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (Pok) में ईसाईयों, हिंदुओं, अहमदियों के मानवाधिकार उल्लंघन पर चुप्पी साध ली गई है. 

न्यूयॉर्क टाइम्स में छपा यह पूरे पेज विज्ञापन यह दर्शाता है कि इसे अतंरराष्ट्रीय मानवतावादी फाउंडेशन (International Humanitarian Foundation) ने प्रकाशित किया गया है जिसके कीनिया, इंडोनेशिया और थाइलैंड में दफ्तर हैं. 

विज्ञापन में दावा किया गया है कि जम्मू और कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद लोगों को नजरबंद कर दिया गया है. जबकि सच यह है कि घाटी में लगतार हालात सामान्य हो रहे हैं और कम्यनिकेशन को बहाल किया जा रहा है. 

तथ्यात्मक रूप से गलत इस विज्ञापन में जम्मू कश्मीर और देश के दूसरे हिस्सों में पाकिस्तान द्वारा प्रयोजित आतंकवाद को नजरअंदाज किया गया है. विज्ञापन में कहा है कि पीएम मोदी ने पाकिस्तान से बातचीत के सभी दरवाजे बंद कर दिए गए हैं जबकि हकीकत यह है कि बातचीत की कोई भी प्रकिया पाकिस्तान से किसी न किसी आतंकवादी हमले के बाद खत्म हुई है. 

(इनपुट - एजेंसी)