उत्तर कोरिया पर अनजाने में हम युद्ध की ओर बढ़ रहे हैं, संरा प्रमुख एंतोनियो गुतारेस

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा गलत धारणाएं तथा स्थिति से गलत तरीके से निपटने से हम अनजाने में युद्ध की ओर बढ़ रहे हैं जिसके परिणाम विनाशकारी होंगे.

उत्तर कोरिया पर अनजाने में हम युद्ध की ओर बढ़ रहे हैं, संरा प्रमुख एंतोनियो गुतारेस
संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस. (फाइल फोटो)

तोक्यो: संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने उत्तर कोरिया के बढ़ते मिसाइल एवं परमाणु खतरे के मद्देनजर बातचीत की संभावना तलाशने के लिए तत्काल प्रयास करने की अपील करते हुए शुक्रवार (15 दिसंबर) को कहा कि गलत अनुमानों एवं धारणाओं से बचना आवश्यक है क्योंकि इससे हम अनजाने में युद्ध की ओर बढ़ रहे हैं. गुतारेस ने जापान के प्रधानमंत्र शिंजो आबे से तोक्यो में मुलाकात भी की. उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र का उद्देश्य संघर्ष से बचना है. तोक्यो में पत्रकारों से उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि हम सभी यह चाहते हैं कि नियंत्रण में न रहने वाली चीजों से बचा जाए और गलत धारणाएं तथा स्थिति से गलत तरीके से निपटने से हम अनजाने में युद्ध की ओर बढ़ रहे हैं जिसके परिणाम विनाशकारी होंगे.’’ गुतारेस ‘इंटरनेशनल कांफ्रेंस ऑफ यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज’ में हिस्सा लेने जापान पहुंचे थे.

UN चीफ गुतारेस बोले, बढ़ते मिसाइल और परमाणु खतरे के मद्देनजर उत्तर कोरिया पर प्रतिबंध ज़रूरी

इससे पहले संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस ने कहा था कि उत्तर कोरिया से बढ़ते मिसाइल और परमाणु खतरे के मद्देनजर उसके खिलाफ लगाए गए प्रतिबंधों के पूर्ण क्रियान्यवयन के लिए एकीकृत प्रयास महत्वपूर्ण हैं. गुतारेस ने गुरुवार (14 दिसंबर) को तोक्यो में जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे से मुलाकात की थी. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा कि क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए उत्तर कोरिया को परमाणु अस्त्र विहीन किया जाना चाहिए. आबे ने कहा कि वह इस बात से सहमत हैं कि उत्तर कोरिया से संभावित वार्ता सार्थक और देश के परमाणु निरस्त्रीकरण पर केंद्रित हो सकती है. अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन उत्तर कोरिया के साथ संभावित बातचीत के लिए वाशिंगटन के तैयार होने की बात कह चुके हैं.

तनाव के बीच बोले रेक्स टिलरसन, अमेरिका बिना शर्त उत्तर कोरिया से बातचीत को तैयार

जबकि उत्तर कोरिया को दुनिया का सबसे मजबूत परमाणु शक्ति वाला देश बनाने की किम जोंग-उन की घोषणा के बीच अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने बीते 13 दिसंबर को कहा है कि अमेरिका परमाणु नि:शस्त्रीकरण मुद्दे पर बिना पूर्व शर्त के उत्तर कोरिया के साथ वार्ता शुरू करने को तैयार है. अमेरिका ने उत्तर कोरिया को यह पेशकश ऐसे समय की है जब उसकी अर्थव्यवस्था की रीढ़ तोड़ने वाले कई प्रतिबंध उत्तर कोरिया पर लगे हुए हैं और दो सप्ताह पहले ही इस देश ने अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टक मिसाइल का परीक्षण किया है.

इस पेशकश से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि टिलरसन के पहले वाले रुख में अंतर आया है क्योंकि टिलरसन ने एक बार कहा था कि अमेरिका उत्तर कोरिया के साथ कोई मोल-तोल नहीं करेगा और वार्ता तभी संभव है जब किम-जोंग उन सरकार परमाणु नि:शस्त्रीकरण के लिए तैयार हो. टिलरसन ने कहा, ' हमने इसे कूटनीतिक तौर पर कहा है कि अगर उत्तर कोरिया बातचीत को तैयार होता है तो हम कभी भी बातचीत को तैयार हैं. हम पहली वार्ता बिना किसी पूर्व शर्त के करने को तैयार हैं.'

टिलरसन अटलांटिक काउंसिल कोरिया फाउंडेशन फोरम की ओर से आयोजित 'मीटिंग द फॉरेन पॉलिसी चैलेंजेज ऑफ 2017 एंड बियॉन्ड' कार्यक्रम में बोल रहे थे. यह पेशकश राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की चेतावनी से ठीक उलट है. राष्ट्रपति ने कहा था कि बातचीत विफल हो चुकी है और टिलरसन अपना समय बर्बाद कर रहे हैं. टिलरसन ने कहा है कि उत्तर कोरिया से यह मांग करना कि वह बातचीत शुरू करने से पहले अपने हथियार छोड़ दे, यह मांग व्यवहार्य नहीं है.

(इनपुट एजेंसी से भी)