close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'बीमार' पाकिस्तान के लिए भारत बना सहारा, 1 साल में मंगाई 1 अरब 37 करोड़ रुपये की दवा

रिपोर्ट में बताया गया है कि बीते वर्ष जनवरी में भारत से 15 करोड़ 43 लाख व 17 हजार पाकिस्तानी रुपये की दवा और वैक्सीन मंगाई गईं. 

'बीमार' पाकिस्तान के लिए भारत बना सहारा, 1 साल में मंगाई 1 अरब 37 करोड़ रुपये की दवा
प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

पाकिस्तान: पाकिस्तान ने बीते वर्ष भारत से एक अरब, 36 करोड़, 99 लाख एवं 87 हजार रुपये की दवा व वैक्सीन आयात की. यह जानकारी पाकिस्तान के स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी है. 'एक्सप्रेस न्यूज' की रिपोर्ट के मुताबिक, आयात की गई दवाओं में जीवन रक्षक दवाओं के साथ-साथ विभिन्न रोगों में इलाज में आने वाली टैबलेट, सीरप और टीके बड़ी मात्रा में शामिल हैं. रिपोर्ट में बताया गया है कि बीते वर्ष जनवरी में भारत से 15 करोड़ 43 लाख व 17 हजार पाकिस्तानी रुपये की दवा और वैक्सीन मंगाई गईं. फरवरी में 22 करोड़ 32 लाख 47 हजार, मार्च में 19 करोड़ 37 लाख और 37 हजार रुपये की भारतीय दवाएं व वैक्सीन आयात की गईं.

अप्रैल में 11 करोड़ 10 लाख एवं 42 हजार, मई में 18 करोड़ 96 लाख एवं 47 हजार और जून में चार करोड़ 89 लाख एवं 12 हजार रुपये की भारतीय दवा व वैक्सीन आयात की गईं.

पाकिस्तान के सामान पर भारत ने लादा टैक्स
पाकिस्तान से आयातित वस्तुओं पर 200 फीसदी शुल्क लगाने का प्रस्ताव राज्यसभा में पारित हो गया है. उच्च सदन ने मसूर, बोरिक एसिड और डायग्नॉस्टिक व लेबोरेटरी रीजेंट्स पर भी बेसिक सीमाशुल्क (बीसीडी) बढ़ाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी. प्रस्ताव में मसूर पर बीसीडी 40 फीसदी से बढ़ाकर 50 फीसदी करने की मांग की गई थी. बोरिक एसिड पर सीमाशुल्क 17.5 फीसदी से बढ़ाकर 27.5 फीसदी हो जाएगा.

वहीं, डॉयग्नॉस्टिक मदों में शुल्क 20 फीसदी से बढ़कर 30 फीसदी हो जाएगा.वित्त राज्यमंत्री अनुराग ठाकुर ने वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण की ओर से दोनों वैधानिक प्रस्ताव पेश किए जिन्हें ध्वनिमत से स्वीकार किया गया. पहले प्रस्ताव में सीमाशुल्क अधिनियम 1975 की पहली अनुसूची के अध्याय 98 के तहत 9806 00 00 नए शुल्क मद शामिल करने के लिए फरवरी 2019 में जारी अधिसूचना को मंजूरी प्रदान करने की मांग की गई जिसके तहत पाकिस्तान से आयातित सभी वस्तुओं पर सीमाशुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी करने का जिक्र है.

भारत के इस कदम से कंगाली से गुजर रहे और कर्जे में डूबे पाकिस्‍तान की अर्थव्‍यवस्‍था को बड़ा झटका लग सकता है. यहां यह बताना बेहद जरूरी है कि भारत और पाकिस्तान के बीच 2012 के आंकड़े के मुताबिक़, करीब 2.60 बिलियन डॉलर का व्यापार होता है. ऐसे में पाक को भारत के साथ कारोबारी लिहाज से बड़ा नुकसान उठाना पड़ेगा.

भारत-पाक के बीच इन चीजों का है बड़ा कारोबार
भारत और पाकिस्‍तान के बीच सीमेंट, चीनी, रुई, सब्जियों, ऑर्गेनिक केमिकल, चुनिंद फल, ड्राई फ्रूट्स, मिनरल ऑयल, स्टील जैसी कमोडिटीज़ और वस्तुओं का कारोबार दोनों देशों के बीच होता है.

इनपुट आईएएनएस से भी