46 साल बाद एक बार फिर भड़का यह ज्वालामुखी, 450 सालों में 34 बार फटा

इस ज्‍वालामुखी में सबसे भयावह 1911 का विस्फोट था, जिसमें लगभग 1500 लोगो की मौत हुई थी. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Jan 14, 2020, 15:28 PM IST

फिलीपींस का दूसरा सबसे सक्रिय ज्वालामुखी ताल एक बार फिर फटने को तैयार है. ज्वालामुखी से तेेजी से लावा निकल रहा है. वैज्ञानिकों के मुताबिक यह आने वाले कुछ ही समय में फट जाएगा, जिसके कारण एक बड़े पैमाने पर बर्बादी के संकेत हैं. अब तक इसका लावा करीब 12 से 16 किमी. दूर तक फैल चूका है. हैरानी की बात ये है कि पिछले 450 सालों में यह अब तक 34 बार फट चुका है. इसमें सबसे भयावह 1911 का विस्फोट था, जिसमें लगभग 1500 लोगों की मौत हुई थी. 

1/6

टैगायटे शहर से ताल ज्वालामुखी का दृश्य

टैगायटे शहर से ताल ज्वालामुखी का दृश्य

फिलीपींस में मौजूद ताल लेक पर इस ज्वालामुखी के भड़कते ही मनीला का मौसम काफी खराब हो चुका है.

2/6

हवा खराब, सेहत पर हो रहा बुरा असर

हवा खराब, सेहत पर हो रहा बुरा असर

फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतेर्ते ने मनीला और आसपास के इलाकों में फैली राख और खराब हवा को देखते हुए लोगों को सचेत किया. सरकारी दफ्तर और स्कूल बंद रखने के भी निर्देश दिए गए हैं.

 

3/6

ज्वालामुखी से लावा और राख निकलना शुरू

ज्वालामुखी से लावा और राख निकलना शुरू

ज्वालामुखी से लावा और राख निकलना शुरू हो गया था. बहता हुआ लावा लोगो के घरों तक जा पहुंचा है. जिसके चलते लोगों को लावा हटाते हुए देखा जा सकता है.

4/6

लावा के साथ भूकंप बना परेशानी का कारण

लावा के साथ भूकंप बना परेशानी का कारण

ज्वालामुखी से लावा और राख निकलने के कारण ताल के पूरे क्षेत्र में अब तक 75 भूकंप के झटके आ चुके हैं.

5/6

बचाव कार्य जारी

बचाव कार्य जारी

खतरे को देखते हुए प्रशासन ने करीब 8,000 स्थानीय लोगों को बाहर निकाल लिया है. अनुमान है कि अगर ज्वालामुखी फटा, तो इसका लावा ताल लेक में गिरेगा, जिससे आसपास के इलाकों में सुनामी आ सकती है. 

 

6/6

हाई अलर्ट पर फिलीपींस

हाई अलर्ट पर फिलीपींस

फिलीपींस के इंस्टीट्यूट ऑफ वोल्केनोलॉजी एंड सीस्मोलॉजी ने अलर्ट लेवल को 3 से बढ़ाकर 4 पर कर दिया है. यह गंभीर खतरे का निशान है.