प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और श्रीलंका के PM राजपक्षे द्विपक्षीय संबंधों पर करेंगे चर्चा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे 26 सितंबर को एक डिजिटल शिखर वार्ता के दौरान रक्षा एवं सुरक्षा मामलों सहित द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा करेंगे. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और श्रीलंका के PM राजपक्षे द्विपक्षीय संबंधों पर करेंगे चर्चा
फ़ाइल फोटो

कोलंबो: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और श्रीलंका के प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे (Mahinda Rajapaksa) 26 सितंबर को एक डिजिटल शिखर वार्ता के दौरान रक्षा एवं सुरक्षा मामलों सहित द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा करेंगे. श्रीलंका के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने इस साल छह अगस्त को राजपक्षे के साथ फोन पर बातचीत की थी. प्रधानमंत्री मोदी की पहल पर यह शिखर वार्ता की जा रही है.

राजपक्षे ने बुधवार को ट्वीट किया, ‘मैं 26 सितंबर को डिजिटल शिखर वार्ता में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बातचीत करने को लेकर उत्सुक हूं. हम, दोनों देशों के बीच राजनीति से लेकर अर्थव्यवस्था, रक्षा, पर्यटन और आपसी हितों से जुड़े अन्य क्षेत्रों में बहुआयामी द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा किए जाने की उम्मीद करते हैं.’

श्रीलंका के विदेश मंत्रालय ने बुधवार को कहा, ‘इस वार्ता के दौरान राजनीतिक, आर्थिक, वित्त, विकास, रक्षा, शिक्षा, पर्यटन एवं सांस्कृतिक संबंधों सहित द्विपक्षीय संबंधों के सभी आयामों और आपसी हित के क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय मामलों पर चर्चा की जाएगी.’ इसने कहा कि इस शिखर वार्ता में संबंधित मामलों के मंत्री और दोनों देशों के वरिष्ठ अधिकारी शीर्ष नेताओं के साथ मौजूद रहेंगे.

ये भी पढ़ें- जब PM मोदी ने कोहली से पूछ लिया छोले-भटूरे पर सवाल, मिला ये जवाब

मंत्रालय ने कहा कि पिछले महीने प्रधानमंत्री पद का कार्यभार संभालने के बाद राजपक्षे की यह किसी अन्य देश के नेता के साथ पहली डिजिटल शिखर वार्ता होगी. राजपक्षे के ट्वीट के जवाब में मोदी ने बृहस्पतिवार को ट्वीट किया, ‘धन्यवाद प्रधानमंत्री राजपक्षे. मैं भी दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों की संयुक्त रूप से विस्तारपूर्वक समीक्षा किए जाने की उम्मीद कर रहा हूं. हमें कोविड-19 के बाद आपसी सहयोग को और आगे बढ़ाने के रास्ते भी तलाशने चाहिए.’

ऐसी संभावना है कि दोनों नेता आतंकवाद के खिलाफ सहयोग बढ़ाने, रक्षा एवं व्यापार संबंधों को मजबूत करने तथा श्रीलंका में भारत की विकास परियोजनाओं के क्रियान्वयन जैसे कई अन्य विषयों पर भी विमर्श कर सकते हैं. वार्ता के दौरान श्रीलंका के तमिल समुदाय से संबंधित मामले पर भी बात हो सकती है. भारत श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिल समुदाय की आकांक्षाओं को पूरा किए जाने का समर्थन करता रहा है.

इस बीच, नयी दिल्ली में विदेश मंत्रालय ने कहा, ‘डिजिटल द्विपक्षीय शिखर वार्ता दोनों देशों को श्रीलंका में संसदीय चुनाव के बाद और दोनों देशों के बीच समय की कसौटी पर खरे उतरे संबंधों के संदर्भ में द्विपक्षीय संबंधों की वृहद रूपरेखा की समग्र समीक्षा करने का अवसर देगी.’