मिडिल ईस्ट में PM मोदी करते रहे शांति की अपील, इजरायल ने सीरिया पर किया 30 साल में सबसे बड़ा हमला

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तरफ जहां मिडिल ईस्ट के देशों के बीच दोस्ती कायम रखने के लिए फिलिस्तीन दौरे पर हैं,

मिडिल ईस्ट में PM मोदी करते रहे शांति की अपील, इजरायल ने सीरिया पर किया 30 साल में सबसे बड़ा हमला
भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास से दुनिया में शांति बहाली के मुद्दे पर भी बातचीत की. तस्वीर साभार: ट्विटर पेज @narendramodi

यरूशलम: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक तरफ जहां मिडिल ईस्ट के देशों के बीच दोस्ती कायम रखने के लिए फिलिस्तीन दौरे पर हैं, वहीं दूसरी तरफ इजरायल ने एक बार फिर से सीरिया पर बड़े हमले कर इस कोशिश को नाकाम करने में जुटा है. फिलिस्तीन दौरे पर गए पीएम मोदी ने अंतरराष्ट्रीय मंच से इजरायल से अपील की कि वे दुनिया के इस हिस्से में शांति बहाल करने में अहम भूमिका निभाएं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी कई दफे इजरायल से कह चुके हैं कि वह दुनिया के इस हिस्से में शांति बहाली में अहम रोल निभाए. इन अपीलों को दरकिनार करते हुए इजरायली वायु सेना ने शनिवार (10फरवरी) को सीरिया में कुछ ईरानी ठिकानों पर जोरदार हमले किए. इजरायली वायुसेना के वरिष्ठ जनरल तोमर बार ने मीडिया से बातचीत में कहा है कि साल 1982 के लेबनान युद्ध के बाद यह सीरिया के खिलाफ सबसे बड़ा हमला है. यह पहला मौका है जब इजरायली सेना ने सीरिया में ईरानी सैन्य ठिकानों को निशाना बनाने का दावा भी किया है.

इजरायल की ओर से किए गए इस हमले से अमेरिका और रूस दोनों देशों ने चिंता जाहिर की है. अमेरिका की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सीरिया और इजराइल की सीमा पर बड़ी हिंसा चिंता का विषय है. वहीं रूस ने कहा है कि सीरिया पहले से ही गृहयुद्ध का सामना कर रहा है. ऐसे में वहां इजरायल का हमला करना चिंता का विषय है.

ये भी पढ़ें: भारत और फिलिस्तीन के रिश्ते समय की कसौटी पर हमेशा खरे उतरे हैं : पीएम नरेंद्र मोदी

सीरिया ने इजरायली लड़ाकू विमान मार गिराए
इजरायल की ओर से अचानक हमला किए जाने के बाद सीरिया ने भी जवाबी कार्रवाई की. सीरियाई हवाई रक्षा प्रणाली के निशाने पर आने के बाद इजरायली लड़ाकू विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया. दोनों पक्षों के बीच गोलीबारी सीरिया में 2011 से गृह युद्ध शुरू होने के बाद से चिर प्रतिद्वंद्वी इजरायल और ईरान के बीच सबसे गंभीर है. सीरिया में गृह युद्ध शुरू होने के बाद से इजरायल ने पहली बार वहां ईरानी ठिकानों पर हमला करने की बात स्वीकार की है. इजरायली सेना ने तेहरान को चेतावनी जारी की. उसने कहा कि इजरायल में घुसने वाले ड्रोन के लिये वह जिम्मेदार है.

F16
इजरायल ने सीरिया मेंं F16 लड़ाकू विमान से हमला किया, जवाबी कार्रवाई में एक ध्वस्त हो गया.

ये भी पढ़ें: रामल्ला पहुंचने वाले पहले भारतीय पीएम बने नरेंद्र मोदी, मिला फिलस्तीन का सर्वोच्च सम्मान

लड़ाकू विमान ध्वस्त पर इजरायली पायलट सुरक्षित
इजरायल ने पड़ोसी सीरिया में ईरानी बलों की मौजूदगी के खिलाफ हाल के हफ्तों में बार-बार चेतावनी जारी की है. दुर्घटनाग्रस्त एफ-16 के पायलट कथित तौर पर जीवित हैं. इजरायल की सेना के प्रवक्ता लेफ्टिनेंट जोनथन कोनरिकस ने ट्वीट किया, ‘आईडीएफ (इजरायली सुरक्षाबल) ने सीरिया में ईरानी नियंत्रण प्रणाली को निशाना बनाया, जिसने इजरायली हवाई सीमा में यूएवी (ड्रोन) भेजा था. सीरिया की ओर से विमान को मार गिराने के लिए किये गए हमलों में इजरायल का एक एफ-16 दुर्घटनाग्रस्त, पायलट सुरक्षित.’ सेना की ओर से जारी एक अलग वक्तव्य के अनुसार इजरायली बलों ने सीरिया से छोड़े गए एक ‘ईरानी यूएवी’ की पहचान की है और एक लड़ाकू हेलिकॉप्टर से इ्स्राइली हवाई क्षेत्र में उसे रोका गया. पुलिस ने बताया कि एफ-16 उत्तरी इजरायल के जेजरील में दुर्घटनाग्रस्त हुआ.

बयान में कहा गया, ‘हमले के दौरान आईएएफ (इजरायली वायु सेना) के विमान पर कई एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइलें दागीं गईं.’ वक्तव्य में कहा गया, ‘पायलटों में से एक ने प्रक्रिया के अनुसार विमान को छोड़ दिया. पायलट इजरायली भूभाग में उतरा और उसे उपचार के लिये अस्पताल ले जाया गया.’

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.