close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बहरीन में PM मोदी आज 200 साल पुराने कृष्ण मंदिर की पुनर्निर्माण योजना की करेंगे शुरुआत

पीएम मोदी आज बहरीन की राजधानी मनामा में स्थित 200 साल पुराने भगवान श्री कृष्ण के मंदिर में आयोजित होने वाले कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव में भाग लेंगे.   

बहरीन में PM मोदी आज 200 साल पुराने कृष्ण मंदिर की पुनर्निर्माण योजना की करेंगे शुरुआत
पीएम मोदी बहरीन की यात्रा करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहरीन की दो दिनों की यात्रा पर हैं. पीएम मोदी रविवार को इस खाड़ी देश की राजधानी मनामा में स्थित 200 साल पुराने भगवान श्री कृष्ण के मंदिर में आयोजित होने वाले कृष्ण जन्माष्टमी उत्सव में भाग लेंगे. इसके साथ ही पीएम मोदी इस मंदिर की पुनर्निर्माण परियोजना का शुभारंभ करेंगे. इस पर 42 लाख डॉलर यानी 30 करोड़ की लागत आएगी. इस मंदिर का निर्माण 1817 में हुआ था. पीएम मोदी बहरीन की यात्रा करने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं. 

यह मंदिर 45 हजार वर्ग फुट क्षेत्र में फैला है, जो कि तीन मंजिला मंदिर है. मंदिर में श्रद्धालुओं के पहुंचने की संख्या में बढ़ोतरी होगी. मंदिर में पुजारियों के ठहरने की व्यवस्था भी होगी. वहीं मंदिर में हिंदू समुदाय के लोगों की शादियों की मेजबानी करने की सुविधा भी होगी. इतना ही नहीं इस मंदिर में एक नॉलेज सेंटर और संग्रहालय भी होगा. मंदिर की देखरेख करने वाले थट्टाई हिंदू सौदागर समुदाय के अध्यक्ष बॉब ठाकेर ने कहा कि नवनिर्मित ढांचा 45,000 वर्ग फुट में  होगा और इसके 80 फीसदी हिस्से में कहीं अधिक श्रद्धालुओं के लिए जगह होगी.

VIDEO: पीएम मोदी बहरीन में बोले- मेरा दोस्‍त अरुण चला गया, मेरे अंदर गहरा शोक

 

इससे पहले, शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल बहरीन की राजधानी मनामा पहुंचे. बहरीन के प्रधान मंत्री प्रिंस खलीफा बिन सलमान अल खलीफा की मौजूदगी में मनामा के अल-गुदाईबिया पैलेस में शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का स्वागत किया गया.  

जेटली को याद कर भावुक हुए पीएम मोदी
बहरीन में अरुण जेटली को याद करते हुए कहा, मैं यहां बहुत बड़ा शोक दबाए खड़ा हूं. आज भारत में जन्‍माष्‍टमी की धूम है, लेकि‍न मेरे अंदर गहरा शोक है. कुछ दिन पहले बहन सुषमा चली गईं, और अब मेरा दोस्‍त अरुण चला गया. मैंने अपने सबसे अजीज मित्र को खो दिया. मैं कर्तव्‍य से बंधा हूं, इसलिए दोस्‍त के जाने का दुख है. मैं बहरीन की धरती से भाई अरुण को श्रद्धांज‍ल‍ि देता हूं.