जो बाइडेन को बधाई देने में ट्रंप के दोस्‍त को हो रहा 'संकोच', उठे ये सवाल

क्रेमलिन के प्रवक्‍ता दमित्री पेसकोव के मुताबिक पुतिन ने कहा कि वे 'अमेरिकी लोगों की पसंद' का सम्मान करते हैं. प्रवक्‍ता ने कहा, 'हमें आधिकारिक परिणामों का इंतजार करना सही लगता है. मैं आपको बता दूं कि राष्ट्रपति पुतिन ने बार-बार कहा है कि वह अमेरिकी लोगों की पसंद का सम्मान करेंगे.'

जो बाइडेन को बधाई देने में ट्रंप के दोस्‍त को हो रहा 'संकोच', उठे ये सवाल
व्लादिमीर पुतिन और जो बाइडेन

नई दिल्‍ली: जो बाइडेन (Joe Biden) को संयुक्‍त राज्‍य अमेरिका के राष्‍ट्रपति पद की दौड़ का विजेता साबित हुए 2 दिन हो चुके हैं. सभी प्रमुख अमेरिकी न्‍यूज नेटवर्क ट्रंप पर उनकी जीत की घोषण कर चुके हैं. भारत के प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी (PM Narendra Modi) से लेकर फ्रांस के राष्‍ट्रपति मैक्रों समेत कई वैश्विक लीडर उन्‍हें जीत की बधाई दे चुके हैं लेकिन एक देश ऐसा है जहां के प्रमुख बाइडेन को बधाई देने के लिए इंतजार कर रहे हैं. 

क्रेमलिन के अनुसार, रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने सोमवार को दावा किया कि वह बाइडेन को बधाई देने के लिए आधिकारिक परिणामों की प्रतीक्षा कर रहे हैं, जो कि जनवरी में जारी होंगे. 

'जनता की पसंद का सम्‍मान'
क्रेमलिन के प्रवक्‍ता दमित्री पेसकोव के मुताबिक पुतिन ने कहा कि वे 'अमेरिकी लोगों की पसंद' का सम्मान करते हैं. प्रवक्‍ता ने कहा, 'हमें आधिकारिक परिणामों का इंतजार करना सही लगता है. मैं आपको बता दूं कि राष्ट्रपति पुतिन ने बार-बार कहा है कि वह अमेरिकी लोगों की पसंद का सम्मान करेंगे.'

अमेरिका के राष्‍ट्रपति चुने गए जो बाइडेन के मतपत्रों की गिनती में डोनाल्ड ट्रंप पर अच्‍छी-खासी बढ़त हासिल की, जिसके बाद दुनिया भर के नेताओं ने उन्हें और उनकी उप-राष्ट्रपति चुनी गईं कमला हैरिस को बधाई दी.

ये भी पढ़ें: 'Laxmii' रिलीज को बस कुछ ही घंटे बाकी, अक्षय के VIDEO ने बढ़ाई फैंस की बेकरारी

लेकिन ट्रंप के मामले में नहीं किया था इंतजार
यहां एक रोचक बात यह है कि 2016 में जब ट्रंप जीते थे तो उनकी जीत की पुष्टि होने के एक घंटे के अंदर ही पुतिन ने उन्‍हें जीत की बधाई दे दी थी. इसे लेकर पेसकोव ने कहा कि 2020 का चुनाव कानूनी विकल्पों के कारण अलग है, डोनाल्ड ट्रंप अनुमानित परिणामों के खिलाफ जाने की योजना बना रहे हैं. उन्होंने हार स्‍वीकारने से भी मना कर दिया है. पेसकोव ने कहा, 'तब और अब में अंतर काफी स्पष्ट है ... तब कानूनी चुनौती देने को लेकर कोई घोषणा नहीं की गई थी.' 

उन्होंने आगे कहा, 'हमें उम्मीद है कि संयुक्त राज्य अमेरिका के अगले राष्ट्रपति के साथ बातचीत को फिर से शुरू करना और हमारे द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य बनाने के तरीकों पर सहमत होना संभव होगा.' 

गौरतलब है कि 2016 के चुनावों के दौरान डोनाल्ड ट्रंप को चुनने के लिए रूस पर हस्तक्षेप करने का आरोप लगाया गया था. 

LIVE TV

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.