अगले कुछ दिनों में चीन के खिलाफ बड़ा कदम उठाएगा अमेरिका, विदेश मंत्री ने दिए बड़े संकेत

चीन की सॉफ्टवेयर कंपनियों के खिलाफ अमेरिका (America) अगले कुछ दिनों में कोई बड़ी कार्रवाई कर सकता है. अमेरिकी विदेशमंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने कहा है कि चीनी सरकार को डेटा उपलब्ध कराने वालीं कंपनियों पर कार्रवाई की जाएगी.

अगले कुछ दिनों में चीन के खिलाफ बड़ा कदम उठाएगा अमेरिका, विदेश मंत्री ने दिए बड़े संकेत
फाइल फोटो

वॉशिंगटन: चीन की सॉफ्टवेयर कंपनियों के खिलाफ अमेरिका (America) अगले कुछ दिनों में कोई बड़ी कार्रवाई कर सकता है. अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ (Mike Pompeo) ने कहा है कि चीनी सरकार को डेटा उपलब्ध कराने वालीं कंपनियों पर कार्रवाई की जाएगी.

पोम्पिओ ने रविवार को कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगले कुछ दिनों में ऐसी चीनी सॉफ्टवेयर कंपनियों के खिलाफ एक्शन लेने वाले हैं, जो यूजर का डेटा बीजिंग को उपलब्ध करा रही हैं. फॉक्स न्यूज चैनल से बात करते हुए अमेरिकी विदेशमंत्री ने कहा, ‘राष्ट्रपति ट्रंप ने स्पष्ट किया है कि चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के इशारे पर काम कर रहीं कंपनियों के खिलाफ अगले कुछ दिनों में कार्रवाई की जाएगी. ये कंपनियां अमेरिकी की सुरक्षा के लिए खतरा हैं’. 

ये भी पढ़ें: TikTok बैन पर अमेरिकी वित्त मंत्री का बड़ा बयान, 10 करोड़ अमेरिकियों का है सवाल

डोनाल्ड ट्रंप चीनी ऐप TikTok पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा पहले ही कर चुके हैं और आने वाले दिनों में कई और चीनी कंपनियों को इसका सामना करना पड़ सकता है. एयर फोर्स वन पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा था कि जहां तक TikTok का सवाल है, तो हम इए बैन करने जा रहे हैं’. माइक पोम्पिओ ने कहा कि चीनी कंपनियों के खिलाफ जासूसी के आरोप लगे हैं. यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा है और हम स्थिति की गंभीरता को समझते हैं. इसी को ध्यान में रखते हुए अगले कुछ दिनों में राष्ट्रपति चीन की सॉफ्टवेयर कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं. 

कई रिपोर्टों में यह दावा भी किया गया है कि TikTok की मूल कंपनी बाइटडांस और माइक्रोसॉफ्ट के बीच चर्चा चल रही है. माइक्रोसॉफ्ट TikTok के अमेरिकी ऑपरेशंस खरीदना चाहती है. हालांकि, दोनों ही कंपनियों ने अभी इसकी पुष्टि नहीं की है.  वहीं, ट्रेजरी सचिव स्टीवन मेनुचिन (Steven Mnuchin) ने कहा है कि राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए TikTok के अमेरिकी ऑपरेशंस को बेचा जाना चाहिए, अन्यथा उस पर बैन लगना चाहिए. उन्होंने आगे कहा, ‘मैं सार्वजनिक रूप से कहूंगा कि पूरी समिति इस बात से सहमत है कि TikTok मौजूदा प्रारूप में काम नहीं कर सकती, क्योंकि यह 100 मिलियन अमेरिकियों के डेटा की सुरक्षा से खिलवाड़ होगा’.