चीन की शान माना जाने वाला प्रोजेक्‍ट फेल? ड्रैगन के दावों पर उठे सवाल

रिकॉर्ड बारिश के बीच, चीन सरकार का कहना है कि दुनिया के सबसे बड़े बांध ने बाढ़ के संकट के साथ आर्थिक नुकसान को भी कम किया है. 

चीन की शान माना जाने वाला प्रोजेक्‍ट फेल? ड्रैगन के दावों पर उठे सवाल
सवालों के घेरे में चीनी सरकार.

नई दिल्ली: चीन के हुबेई प्रांत में हो रही मूसलाधार बारिश से अब बाढ़ जैसी स्थिति बनती जा रही है. बाढ़ जैसे हालात पैदा होने के पीछे का कारण बारिश के अलावा एशिया की सबसे बड़ी नदी यांगजे (Yangtze) के ऊपर हुबेई में बना थ्री गॉर्जेस डैम (Three Gorges Dam) से पानी छोड़ना भी है. इस वजह से चीन के कई प्रांतों में अलर्ट भी जारी कर दिया गया है. 

रिकॉर्ड बारिश के बीच, चीन सरकार का कहना है कि दुनिया के सबसे बड़े बांध ने बाढ़ के संकट के साथ आर्थिक नुकसान को भी कम किया है. इस बीच कई आलोचकों ने चीनी सरकार के थ्री गॉर्जेस डैम पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि यह वह काम नहीं कर रहा है, जिसके लिए डिजाइन किया गया था.

ये भी पढ़ें: दावा: ट्रंप ने बीते 14 महीनों में हर दिन बोले 23 झूठ, जानें कौन-कौन से मुद्दे शामिल

चीनी बाढ़ का अध्ययन करने वाले एक भूगोलविद् डेविड शंक्मैन ने कहा, 'थ्री गॉर्जेस डैम का प्रमुख औचित्य बाढ़ को कंट्रोल करना था. तथ्य यह है कि यह इन गंभीर घटनाओं को रोक नहीं सकता है.'

चीन के जल संसाधन मंत्री ये जियानचुन ने सोमवार को कहा कि जलाशयों, विशेष रूप से थ्री गॉर्जेस डैम से पानी के "विस्तृत शेड्यूलिंग" से इस साल बाढ़ को नियंत्रित करने में मदद मिली. उन्होंने कहा कि 64.7 बिलियन क्यूबिक मीटर बाढ़ का पानी 2,297 जलाशयों में संग्रहित किया गया है, जिसमें थ्री गॉर्जेस में 2.9 बिलियन क्यूबिक मीटर शामिल है.

एक चीनी भूविज्ञानी और विशाल बांध परियोजनाओं के लंबे समय से आलोचक फैन जिओ ने कहा, 'बांध में भंडारण क्षमता औसतन बाढ़ के पानी के 9% से कम है.' फैन ने कहा कि थ्री गॉर्जेस डैम और अन्य परियोजनाएं बाढ़ को बदतर बना सकती हैं. उन्होंने कहा कि इस परियोजना से बिजली पैदा करने के साथ ही बाढ़ नियंत्रण करने की भी जरूरत है.

(इनपुट: एजेंसी रॉयटर्स)