close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सऊदी अरब में सार्वजनिक व्यवहार के नियमों की घोषणा, ये 19 काम किए तो देना पड़ेगा जुर्माना

 नए नियम ऐसे समय में आए हैं जब सऊदी अपने दरवाजे विदेशी पर्यटकों के लिए भी खोल रहा है. 

सऊदी अरब में सार्वजनिक व्यवहार के नियमों की घोषणा, ये 19 काम किए तो देना पड़ेगा जुर्माना
(फाइल फोटो, साभार - रॉयटर्स)

रियाद: सऊदी अरब (Saudi Arabia) सरकार ने सार्वजनिक व्यवहार (public behaviour) के कई नियमों की घोषणा की है जो शनिवार से लागू हो गए हैं और इनमें 19 प्रकार के उल्लंघनों पर जुर्माना का प्रावधान रखा गया है.

इन नियमों में रिहायशी क्षेत्र में तेज आवाज में गाने बजाना, पालतू जानवरों के मल-मूत्र ना उठाने और सड़क पर थूकने पर भी जुर्माना है. नए नियम ऐसे समय में आए हैं जब सऊदी अपने दरवाजे विदेशी पर्यटकों (Tourists) के लिए भी खोल रहा है. उल्लंघनों की सूची में यौन व्यवहार समेत नैतिकता के विपरीत व्यवहारों को भी उल्लंघन की सूची में रखा गया है.

समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, सऊदी के आंतरिक मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'नमाज की सूचना देने या नमाज के दौरान तेज आवाज में गाने बजाना भी उल्लंघन की सूची में रखा गया है.'

अन्य दंडनीय अपराधों में गंदगी करना, नस्लवाद को बढ़ावा देने वाले वाक्यों या तस्वीरों वाले कपड़े पहनने या प्रतिबंधित पदार्थो का सेवन या पोर्नोग्राफिक सामग्री रखना या देखना और कतार में दूसरों के आगे लगना भी दंडनीय रखा गया है.

मंत्रालय ने कहा कि इन प्रतिबंधों पर 50 रियाल (13.33 डॉलर) से 3,000 रियाल तक का जुर्माना है. इनमें से ज्यादातर व्यवहार सऊदी अरब में पहले से ही प्रतिबंधित है, लेकिन अभी तक किसी दंड का प्रावधान नहीं था और इसका निर्णय न्यायाधीश पर छोड़ दिया जाता था.

सऊदी ने अमेरिका, यूरोप के शेंगेन क्षेत्र के सदस्य देश, ऑस्ट्रेलिया, जापान, दक्षिण कोरिया, दक्षिण अफ्रीका, ब्रुनेई, मलेशिया, सिंगापुर और ताईवान समेत 49 देशों के लिए टूरिस्ट वीजा जारी करने का प्रावधान लाकर दुनियाभर के लिए अपने दरवाजे खोल दिए.

नियम में यह भी कहा गया कि दूसरे देश से यहां आने वाली महिलाओं को बुर्का पहनना अनिवार्य नहीं किया गया है.

सऊदी कमीशन फॉर टूरिज्म एंड नेशनल हेरिटेज के निदेशक मंडल के चेयरमैन अहमद अल-खातिब ने कहा कि हालांकि विदेशी महिलाओं को शालीन कपड़े पहनने होंगे.