चीन का नया हथियार: पहले फंसाता है हुस्न के जाल में, फिर शुरू होती है ब्लैकमेलिंग

विस्तारवादी आदतों के लिए मशहूर चीन अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है. वह केवल Huawei के जरिये जासूसी ही नहीं करवा रहा, बल्कि अपने लक्ष्य को निशाना बनाने के लिए सेक्स का जाल (Sexpionage) भी बुन रहा है.

चीन का नया हथियार: पहले फंसाता है हुस्न के जाल में, फिर शुरू होती है ब्लैकमेलिंग
फाइल फोटो
Play

बीजिंग: विस्तारवादी आदतों के लिए मशहूर चीन अपने मंसूबों को अंजाम देने के लिए किसी भी हद तक जा सकता है. वह केवल Huawei के जरिये जासूसी ही नहीं करवा रहा, बल्कि अपने लक्ष्य को निशाना बनाने के लिए सेक्स का जाल (Sexpionage) भी बुन रहा है. ब्रिटेन में प्रकाशित एक किताब में इस बारे में कई खुलासे हुए हैं.

1990 के दशक में, ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी MI5 ने ब्रिटिश व्यवसायियों के लिए एक मैनुअल प्रकाशित किया था, जिसमें कहा गया था कि जरूरत से ज्यादा प्रशंसा और अत्यधिक उदार मेहमाननवाजी से विशेष रूप से सतर्क रहें. तब की यह सलाह आज भी प्रासंगिक है. सेक्स के जरिये सीक्रेट हासिल करने आज चीन का सबसे अहम् हथियार बन गया है. बीजिंग इसे मीरन जी ('Meiren Ji)- ब्यूटीफुल पर्सन प्लान कहता है. 

इस तरह करता है काम
चीनी जासूस बेहद सोच-समझकर इस योजना को अंजाम देते हैं. सबसे पहले फर्जी सोशल मीडिया अकाउंट का इस्तेमाल कर लक्ष्य को फंसाया जाता है. इसके बाद उनसे संपर्क किया जाता है और व्यवसाय का प्रस्ताव दिया जाता है. जब लगता है कि शिकार जाल में फंसने को तैयार है, तो उसे चीन आमंत्रित किया जाता है. चीन की यात्रा मुफ्त होती है, लेकिन यहां उसे हुस्न के जाल में फंसाकर उसकी आपत्तिजनक फोटो-वीडियो बनाये जाते हैं. इसके बाद शुरू होता है ब्लैकमेलिंग का खेल.      

इंग्लैंड में प्रकाशित एक किताब में चीन के इस सेक्स गेम के बारे में विस्तार से बताया गया है. किताब में उल्लेख है कि किस तरह चीनी महिला एजेंट प्रमुख व्यवसायियों और नेताओं को निशाना बनाती हैं. यह किताब 16 जुलाई को बाजार में आएगी.