close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ऑस्ट्रेलिया : बस में सिख युवक से कृपाण उतारने को कहा गया

ऑस्ट्रेलिया में एक बस में एक सिख व्यक्ति से अपना कृपाण उतारने और बस से ‘‘बाहर निकलने’’ को कहा गया. यह घटना तब हुई जब बस में सवार एक यात्री ने उनका पारंपरिक चाकू को देखने के बाद घबराकर पुलिस को फोन कर दिया था. मीडिया में इस संबंध में खबर आई है. ऑकलैंड में मंगलवार को एक बिजी यात्री बस में एक सिख यात्री के कृपाण धारण किया हुआ था. बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में 72,000 से अधिक सिख रहते हैं.

ऑस्ट्रेलिया : बस में सिख युवक से कृपाण उतारने को कहा गया
पुलिस ने बताया कि सिख युवक के कृपाण को जब्त नहीं किया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

मेलबर्न : ऑस्ट्रेलिया में एक बस में एक सिख व्यक्ति से अपना कृपाण उतारने और बस से ‘‘बाहर निकलने’’ को कहा गया. यह घटना तब हुई जब बस में सवार एक यात्री ने उनका पारंपरिक चाकू को देखने के बाद घबराकर पुलिस को फोन कर दिया था. मीडिया में इस संबंध में खबर आई है. ऑकलैंड में मंगलवार को एक बिजी यात्री बस में एक सिख यात्री के कृपाण धारण किया हुआ था. बता दें कि ऑस्ट्रेलिया में 72,000 से अधिक सिख रहते हैं.

पुलिस ने युवक से कहा बस से बाहर निकलो

एक प्रत्यक्षदर्शी के हवाले से ‘न्यूजीलैंड हेराल्ड’ ने लिखा है, ‘‘हमने खिड़की से बाहर देखा कि सायरन की आवाज के साथ पुलिस वाहन हमारे पीछे आ रहा है. एक पुलिसकर्मी अपने हाथ में बंदूक लिए बस में घुस आया और उस व्यक्ति से कहा, ‘‘अपने हाथ ऊपर करो, ताकि हम उसे देख सकें. बस से बाहर निकलो.’’ उन्होंने कहा कि करीब 20 वर्षीय इस सिख यात्री ने पगड़ी पहना हुआ था और अपनी पीठ पर बायीं ओर कृपाण लटकाये हुए थे. पुलिस ने उसका कृपाण उतार दिया. 

पुलिस ने कहा बस यात्री ने किया फोन

पुलिस की एक प्रवक्ता ने बताया कि बस यात्रियों में से एक ने कृपाण देखने के बाद पुलिस को फोन किया था. प्रवक्ता ने कहा कि हथियार कानून उल्लंघन से निपटने वाले दस्ते को नहीं भेजा गया था और अधिकारियों के पास हथियार नहीं था.

सिख युवक की कृपाण को जब्त नहीं किया

खबर के अनुसार, ‘‘पुलिस ने उस व्यक्ति से बात की, वह सिख है.’’ रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘वह पारंपरिक कृपाण को अपने पास रखे हुआ था, जो सिखों की एक प्रथा है. वैध तरीके से न्यूजीलैंड में रहने वाला वह व्यक्ति विनम्र और सहयोगी भी था और आगे उस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. प्रवक्ता ने बताया कि उस कृपाण को जब्त नहीं किया गया.