अमेरिका में सिख ऑफिसर ने जीती धार्मिक आजादी की जंग, US से आई बड़ी खुशखबरी

अमेरिका में एक सिख आर्मी अधिकारी ने धार्मिक आजादी की जंग जीत ली है. लेफ्टिनेंट सुखबीर तूर लंबे समय से चाहते थे कि उन्हें वर्दी के साथ पगड़ी पहनने की इजाजत मिले, लेकिन सेना इसके लिए तैयार नहीं थी. हालांकि, अब उन्हें इसकी अनुमति मिल गई है.

अमेरिका में सिख ऑफिसर ने जीती धार्मिक आजादी की जंग, US से आई बड़ी खुशखबरी
लेफ्टिनेंट सुखबीर तूर (फोटो: न्यूयॉर्क टाइम्स)

वॉशिंगटन: सिख सैन्य अधिकारी (Sikh Army Officer) के धर्म का सम्मान करते हुए अमेरिकी मरीन कॉर्प्स ने उन्हें पगड़ी पहनने की इजाजत दे दी गई है. अमेरिकी सेना (US Army) के 246 साल के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी सिख अफसर को पगड़ी पहनने की अनुमति मिली है. हालांकि, अधिकारी ने पूर्ण धार्मिक आजादी की मांग की है और ऐसा नहीं होने पर वह अपने कोर के खिलाफ मुकदमा करने पर भी विचार कर रहे हैं.

अनुमति पाने वाले पहले व्यक्ति बने Sukhbir

न्यूज एजेंसी PTI ने न्यूयॉर्क टाइम्स के हवाले से बताया कि 26 वर्षीय लेफ्टिनेंट सुखबीर तूर (Sukhbir Toor) पांच साल से यूनाइडेट स्टेट्स मरीन कॉर्प्स की वर्दी पहन रहे थे. गुरुवार को उन्हें एक वफादार सिख की पगड़ी भी पहनने का मौका मिल गया. मरीन कॉर्प्स के 246 साल के इतिहास में तूर पहले व्यक्ति हैं, जिन्हें पगड़ी पहनने की अनुमति मिली है.

ये भी पढ़ें -बाज नहीं आया ड्रैगन: China ने LAC पर तैनात किए 50 हजार से अधिक जवान, Drone से रख रहा नजर

Officer ने इस तरह बयां की खुशी 

तूर ने एक इंटरव्यू में कहा कि आखिरकार मेरे सामने अपने विश्वास और अपने देश में से किसी एक को चुनने की नौबत नहीं आई. मैं जैसा हूं, वैसा ही रहते हुए दोनों का सम्मान करता हूं. तूर ने कहा कि जब उन्हें इसी साल कैप्टन के रूप में प्रमोट किया गया, तो उन्होंने अपील करने का फैसला किया. बता दें कि तूर ने इस अधिकार को हासिल करने के लिए काफी संघर्ष किया है. 

युद्ध क्षेत्र में नहीं होगी Permission

रिपोर्ट में बताया गया है कि यह मामला काफी लंबे समय से चला आ रहा था. सिख होने के नाते सुखबीर तूर पगड़ी पहनना चाहते था, लेकिन सेना के नियम इसके आड़े आ रहे थे. अब आखिरकार उन्हें इसकी अनुमति मिल गई है. वॉशिंगटन और ओहायो में पले बढ़े भारतीय प्रवासी के बेटे तूर को कुछ सीमाओं के साथ ड्यूटी के दौरान पगड़ी पहनने की अनुमति मिली है और युद्ध क्षेत्र में तैनात होने पर वह ऐसा नहीं कर सकेंगे. हालांकि, वह चाहते है कि उन्हें पूर्ण धार्मिक आजादी मिले.

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.