VIDEO: पुलवामा हमले के खिलाफ आक्रोश लंदन तक पहुंचा, सड़कों पर लगे पाकिस्‍तान टेररिस्‍ट के नारे

पूरी दुनिया में इस आतंकी हमले के बाद पाकिस्‍तान की आलोचना हो रही है. हालांकि खुद पाकिस्‍तान इस बात से लगातार मना कर रहा है.

VIDEO: पुलवामा हमले के खिलाफ आक्रोश लंदन तक पहुंचा, सड़कों पर लगे पाकिस्‍तान टेररिस्‍ट के नारे
इस रैली में लोगों ने हाथ में तिरंगा थाम रखा था. सभी पाक‍िस्‍तान के खिलाफ नारे लगा रहे थे. photo: video grab

लंदन : पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले ने पूरी दुनिया के सामने एक बार फिर से पाकिस्‍तान को बेनकाब कर दिया है. लंदन में भी इसका असर दिखा है. ब्र‍िटेन में रहे भारतीयों ने रविवार को यहां की सड़कों पर पाकिस्‍तान के खिलाफ एक रैली निकाली. इस रैली में सैकड़ों की संख्‍या में लोग इकट्ठा हुए. इस रैली में लोग पाकिस्‍तान मुर्दाबाद और पाकिस्‍तान टेररिस्‍ट के नारे लगा रहे थे. पूरी दुनिया में इस आतंकी हमले के बाद पाकिस्‍तान की आलोचना हो रही है. हालांकि खुद पाकिस्‍तान इस बात से लगातार मना कर रहा है.

रविवार को हुई इस रैली में कई लोगों ने हाथ में तिरंगा थाम रखा था. ये लोग पाकिस्‍तान मुर्दाबाद और पाकिस्‍तान टेररिस्‍ट के नारे लगाते हुए आगे बढ़ रहे थे. लोगों ने हाथों में नारे लिखी तख्तियां थाम रखी थीं. पुलवामा में हुए इस आतंकी हमले के खिलाफ अमेरिका सहित दूसरे बड़े देश आतंकवादियों के खिलाफ उसे कड़ी कार्रवाई की बात कह चुके हैं. लेकिन अब तक उसने उनके खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में पिछले गुरुवार को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आत्मघती हमले में इस अर्धसैनिक बल के 40 जवान शहीद हो गए. पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी. हमले के बाद पाकिस्तान के खिलाफ बड़ी कूटनीतिक आक्रामकता दिखाते हुए भारत ने इस बात पर जोर दिया कि पाकिस्तान अपनी राजकीय नीति के तौर पर आतंकवाद का इस्तेमाल करता रहा है.

भारत ने यह कहने पर पाकिस्तान को आड़े हाथ लिया कि पुलवामा हमले में उसकी कोई भूमिका नहीं है.

सीआरपीएफ ने पुलवामा शहीदों के फर्जी फोटो को लेकर चेतावनी दी
नई दिल्ली: केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने रविवार को कहा कि कुछ शरारती तत्व 'नफरत' फैलाने के लिए पुलवामा हमले में शहीद हुए जवानों के शरीर के अंगों की फर्जी तस्वीरें पेश कर रहे हैं. सीआरपीएफ ने लोगों से इस तरह की पोस्टों को साझा या लाइक नहीं करने की अपील की. सीआरपीएफ ने एक बयान में कहा, "ऐसा पाया गया है सोशल मीडिया पर कुछ शरारती तत्व नफरत फैलाने के लिए हमारे जवानों के शरीर के हिस्सों की फर्जी तस्वीरें प्रसारित करने की कोशिश कर रहे हैं. कृपया इस तरह की तस्वीरों या पोस्ट को प्रसारित, साझा या लाइक नहीं करें."

बयान में कहा गया है कि इस तरह की पोस्ट/तस्वीरों को 'वेबप्रोएटदिरेटसीआरपीएफ डॉट जीओवी डॉट इन पर रिपोर्ट करें.