दक्षिण कोरिया: पूर्व राष्ट्रपति पार्क को 32 साज बिताने होंगे जेल में, जानिए क्या है वजह

 भ्रष्टाचार के मामले में जेल की सजा काट रहीं दक्षिण कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति पार्क ग्वेन हे को आज देश की खुफिया एजेंसी से अवैध रूप से धन हासिल करने का दोषी ठहराते हुए आठ साल की जेल की अतिरिक्त सजा सुनायी गई. 

दक्षिण कोरिया: पूर्व राष्ट्रपति पार्क को 32 साज बिताने होंगे जेल में, जानिए क्या है वजह
अभियोजकों ने पार्क पर 10.4 करोड़ डॉलर का जुर्माना भी लगाने की मांग की.

सोल: भ्रष्टाचार के मामले में जेल की सजा काट रहीं दक्षिण कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति पार्क ग्वेन हे को आज देश की खुफिया एजेंसी से अवैध रूप से धन हासिल करने का दोषी ठहराते हुए आठ साल की जेल की अतिरिक्त सजा सुनायी गई. दक्षिण कोरिया की पहली महिला राष्ट्रपति पार्क को पिछले साल महाभियोग का सामना करना पड़ा था और उन्हें अप्रैल में भ्रष्टाचार और अधिकारों के दुरूपयोग के लिए 24 साल की जेल की सजा सुनायी गयी थी. आज पार्क की गैरमौजूदगी में उन्हें सजा सुनायी गयी.

सोल मध्य जिला अदालत ने पूर्व राष्ट्रपति को खुफिया एजेंसी से 3.3 अरब वोन (29 लाख डॉलर) लेने के लिए छह साल जबकि चुनाव संबंधी अपराध के लिए दो साल की सजा सुनायी. नई सजाओं का मतलब है कि 66 वर्षीय नेता को जेल में कुल 32 साल बिताने होंगे . 

पूर्व राष्ट्रपति को 30 साल कारावास की सजा की थी मांग
दक्षिण कोरिया की पूर्व राष्ट्रपति पार्क ग्यून हे को भ्रष्टाचार के मामले में अभियोजन पक्ष ने शुक्रवार को सियोल की एक अपीलीय अदालत से 30 साल की सजा देने की मांग की थी. पार्क ग्यून हे को भ्रष्टाचार के मामले में महाभियोग लगाकर राष्ट्रपति पद से हटाया गया था. समाचार एजेंसी 'सिन्हुआ' की रिपेर्ट के अनुसार, उन्हें छह अप्रैल को दक्षिण कोरिया की एक अदालत ने 24 साल की सजा सुनाई थी.

अभियोजकों ने पार्क पर 10.4 करोड़ डॉलर का जुर्माना भी लगाने की मांग की. इससे पहले अदालत ने उन पर 1.6 करोड़ डॉलर का जुर्माना लगाया था. पार्क पर आरोप था कि उन्होंने लंबे समय तक उनके विश्वस्त रहे चोई सून सिल की मिलीभगत से सैमसंग समेत बड़े व्यापारिक समूहों पर चोई के नियंत्रण वाली एक संस्था को 6.82 करोड़ डॉलर दान देने क लिए दबाव बनाया था.

उनके ऊपर सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के वाइस चेयरमैल ली जेई-योग को उनके बीमार पिता और कंपनी के चेयरमैन ली कुन ही से कंपनी का प्रबंधन हासिल करने में मदद करने के बदले उनसे 3.82 करोड़ डॉलर का रिश्वत लेने का भी आरोप है. पार्क अक्टूबर 2017 से अदालत में पेश नहीं हुई हैं और उन्होंने मुकदमे की कार्रवाई को राजनीति से प्रेरित बताया है . आगे फैसला 24 अगस्त को आ सकता है. 

इनपुट भाषा से भी