स्‍टीफन हॉकिंग का दावा, ब्रह्मांड की उत्‍पत्ति से पहले का राज उनको पता

वैज्ञानिक स्‍टीफन हॉकिंग के अनुसार बिग बैंग से पहले टाइम (समय) और स्‍पेस (स्‍थान) घुमावदार और कोण वाली स्थिति में थे

स्‍टीफन हॉकिंग का दावा, ब्रह्मांड की उत्‍पत्ति से पहले का राज उनको पता
वैज्ञानिकों के मुताबिक ब्रह्मांड की उत्‍पत्ति 13.8 अरब साल पहले बिग बैंग से मानी जाती है.(प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

ब्रह्मांड की उत्‍पत्ति शुरुआत से ही वैज्ञानिक समुदाय के लिए जिज्ञासा का विषय रही है. सभी को इतना तो पता है कि ब्रह्मांड की उत्‍पत्ति 13.8 अरब साल पहले बिग बैंग से हुई लेकिन किसी को यह नहीं पता कि ब्रह्मांड से पहले क्‍या था. अब वैज्ञानिक स्‍टीफन हॉकिंग ने दावा किया है कि शायद उन्‍हें पता है कि बिग बैंग से पहले क्‍या था? एक टीवी साक्षात्‍कार में जाने-माने वैज्ञानिक हॉकिंग ने कहा कि बिग बैंग से पहले सिर्फ एक अनंत ऊर्जा और तापमान वाला एक बिंदु था. उनके मुताबिक उस वक्‍त टाइम (समय) और स्‍पेस (स्‍थान) घुमावदार और कोण वाली स्थिति में थे. हॉकिंग के मुताबिक हम आज समय को जिस तरह से महसूस करते हैं, ब्रह्मांड के जन्‍म से पहले का समय ऐसा नहीं था. इसमें चार आयाम थे. टीवी साक्षात्‍कार में हॉकिंग ने बताया कि भूत, भविष्‍य और वर्तमान को तीन समानांतर रेखाएं समझें तो उस वक्‍त एक और रेखा भी मौजूद थी, जो ऊर्ध्‍वाधर थी. उसे आप काल्‍पनिक समझ सकते हैं.

स्टीफन हॉकिंग की पीएचडी पढ़ने उमड़े लोग, वेबसाइट हुई क्रैश

काल्‍पनिक समय को बताया हकीकत
हॉकिंग ने काल्‍पनिक समय को हकीकत बताया है. उनका कहना है कि काल्‍पनिक समय कोई कल्‍पना नहीं है, बल्कि यह हकीकत है. हां आप इसे देख नहीं सकते, लेकिन इसे महसूस जरूर कर सकते हैं. हॉकिंग का कहना है कि ब्रह्मांड चार आयाम वाला है. बिग बैंग के वक्‍त समय की कोई सीमा नहीं थी. सीमा ब्रह्मांड की शर्त या अवस्‍था है, लेकिन उससे पहले की नहीं. यानी ब्रह्मांड का इतिहास सीधी रेखा जैसा नहीं है. उल्‍लेखनीय है कि वैज्ञानिकों के मुताबिक ब्रह्मांड की उत्‍पत्ति करीब 13.8 अरब साल पहले बिग बैंग के वक्‍त एक परमाणु जितने आकार के बिंदु से ही हुई. वैज्ञानिक हमारी आकाशगंगा और ब्रह्मांड को जानने-समझने की अधिक से अधिक कोशिश कर रहे हैं.

'100 सालों में धरती छोड़ दे इंसान वरना जिंदा रह पाना होगा मुश्किल!'

कौन हैं हॉकिंग
स्‍टीफन हॉकिंग का जन्‍म आठ जनवरी, 1942 को इंग्‍लैंड के ऑक्‍सफोर्ड में हुआ. वह भौतिक विज्ञानी, ब्रह्मांड विज्ञानी और लेखक हैं. वह यूनिवर्सिटी ऑफ कैम्ब्रिज के सेंटर फॉर थियोरेटिकल कॉस्‍मोलॉजी के रिसर्च विभाग के डायरेक्‍टर हैं. उन्‍होंने हॉकिंग रेडिएशन, पेनरोज-हॉकिंग थियोरम्‍स, बेकेस्‍टीन-हॉकिंग फॉर्मूला, हॉकिंग एनर्जी समेत कई अहम सिद्धांत दिए.