close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पशुपतिनाथ मंदिर में मिला संदिग्ध सामान, आनन-फानन में बुलाई गई आर्मी और पुलिस

पड़ोसी देश नेपाल की राजधानी काठमांडू स्थित पशुपतिनाथ मंदिर (Pashupatinath Temple) में संदिग्ध वस्तु मिलने की सूचना पर आनन-फानन में पुलिस पहुंची. सुरक्षा दृष्टिकोण को देखते हुए मंदिर परिसर में सेना के जवानों को भी बुला लिया गया है. पुलिस संदिग्ध वस्तु को अपने कब्जे में लिया है.

पशुपतिनाथ मंदिर में मिला संदिग्ध सामान, आनन-फानन में बुलाई गई आर्मी और पुलिस
पशुपतिनाथ मंदिर में संदिग्ध सामान मिलने से अफरातफरी.

काठमांडू: हिंदुओं के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल पशुपतिनाथ मंदिर (Pashupatinath Temple) में शुक्रवार को संदिग्ध वस्तु मिलने से हड़कंप मच गया है. पड़ोसी देश नेपाल की राजधानी काठमांडू स्थित पशुपतिनाथ मंदिर में संदिग्ध वस्तु मिलने की सूचना पर आनन-फानन में पुलिस पहुंची. सुरक्षा दृष्टिकोण को देखते हुए मंदिर परिसर में सेना के जवानों को भी बुला लिया गया है. पुलिस संदिग्ध वस्तु को अपने कब्जे में लिया है. हालांकि अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह क्या है.

यहां आपको बता दें कि पशुपतिनाथ भगवान शिव शंकर को समर्पित एशिया के चार सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों में से एक है. इसका निर्माण 5वीं शताब्दी में हुआ था. बाद में मल्ल राजाओं की ओर से इसे पुनर्निर्मित किया गया था. मूल मंदिर को कई बार नष्ट किया गया और निर्माण किया गया. हालांकि आखिरी बार मंदिर को नरेश भूपलेंद्र मल्ला ने 1697 में वर्तमान स्वरूप दिया.

मान्यता है कि यह मंदिर सृष्टि के निर्माण के समय से है. यहां पहली बार शिव लिंग के रूप में प्रकट हुए थे. पशुपतिनाथ मंदिर के मुख्य शिवालय शैली में एक सोने की छत, चार तरफ से ढकी हुई चांदी और बेहतरीन गुणवत्ता की लकड़ी की नक्काशी है. कई अन्य हिंदू और बौद्ध देवताओं को समर्पित मंदिर पशुपतिनाथ के मंदिर के आसपास हैं. पशुपतिनाथ मंदिर काठमांडू घाटी के 8 यूनेस्को सांस्कृतिक विरासत स्थलों में से एक है. साल 2014 में नेपाल में भयंकर भूकंप आया था. इसमें बड़े-बड़े भवन धराशायी हो गए, लेकिन पशुपति नाथ मंदिर को कोई नुकसान नहीं हुआ था.

यहां आपको बता दें कि इसी साल श्रीलंका में कई ईसाई धार्मिक स्थलों पर सिलसिलेवार धमाके हुए थे, जिसमें बड़े पैमाने पर जान-माल का नुकसान हुआ था. इस वजह से पशुपतिनाथ मंदिर में संदिग्ध सामान मिलने की घटना को गंभीरता से लिया जा रहा है.