कब्र खोदकर निकाला दोस्त का शव, फिर बाइक पर घुमाया पूरा शहर, वजह कर देगी हैरान
X

कब्र खोदकर निकाला दोस्त का शव, फिर बाइक पर घुमाया पूरा शहर, वजह कर देगी हैरान

हाल ही में कुछ दोस्तों के एक ग्रुप का फोटो सामने आया है जिसमें कि दोस्त अपने एक मित्र की लाश को 'एक आखिरी' मोटरसाइकिल की सवारी कराने के लिए शहर में घुमाते हैं. इसके लिए उन्होंने ताबूत को खोदकर अपने दोस्त की लाश को बाहर निकाला.

कब्र खोदकर निकाला दोस्त का शव, फिर बाइक पर घुमाया पूरा शहर, वजह कर देगी हैरान

क्वीटो: कहा जाता है सबसे बड़ा रिश्ता अगर कोई है तो वो दोस्ती का है. अक्सर कई वीडियो और फोटोज सामने आते हैं जो दोस्ती की जिंदा मिशाल कायम कर देते हैं. हाल ही में कुछ दोस्तों के एक ग्रुप का फोटो सामने आया है जिसमें कि दोस्त अपने एक मित्र की लाश को 'एक आखिरी' मोटरसाइकिल की सवारी कराने के लिए शहर में घुमाते हैं. इसके लिए उन्होंने ताबूत को खोदकर अपने दोस्त की लाश को बाहर निकाला.

ताबूत से निकाला शव

एरिक सेडेनो (Erick Cedeno’s) के दोस्तों का दावा था कि उन्हें इक्वाडोर (Ecuador) में अपने दोस्त का अंतिम संस्कार करने के लिए और उनके दोस्त की लाश को ताबूत से निकालने के लिए उनके माता-पिता से अनुमति मिली है.

शव को बाइक पर घुमाया

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि लगभग 7 पुरुषों को एक मोटरसाइकिल के आसपास देखा गया है और वे एक बेजान शरीर को बाइक पर रखकर शहर में घूम रहे हैं. दोस्तों का वो ग्रुप बाइक इस तरह से चला रहा है जैसे कि अक्सर युवा चलाते हैं. यानी अपनी बाहों को लहराते हुए.

कुछ इस अंदाज में दी दोस्त को अंतिम विदा

डेली स्टार की रिपोर्ट के अनुसार पुरुषों के ग्रुप का मानना है कि वे अपने दोस्त को श्रद्धांजलि देना चाहते थे. यह उनके दोस्त की आखिरी इच्छा थी. वे इसी तरह से अपने दोस्त को अलविदा कहना चाहते थे और उन्होंने ताबूत पर शराब की बूंदों के छिड़काव भी किया. आपको बता दें कि एरिक की मौत पिछले सप्ताह हो गई थी जब वो अपने किसी प्रियजन के अंतिम संस्कार के रास्ते में जा रहा था और किसी ने उस पर गोली चला दी थी. उसकी उम्र 21 वर्ष थी.

यह भी पढ़ें: कभी देखी है ऐसी 'बॉडी बिल्डर' बिल्ली? डोले देखकर यकीन करना मुश्किल

पुलिस ने कही ये बात

पुलिस ने कहा कि इस शहर में ऐसा पहली बार हुआ है. यह एक असामान्य और गलत तरीका है. हालांकि पुलिस ने दोस्तों के ग्रुप में से किसी को भी हिरासत में नहीं लिया है और ना ही इस घटना की कोई जांच शुरू की गई है. क्योंकि अंतिम संस्कार को एक निजी कार्यक्रम माना जाता है और किसी व्यक्ति के खिलाफ कोई शिकायत नहीं मिली है.

ताबूत से शव निकालने का रिवाज

गौरतलब है कि दुनिया के कुछ हिस्सों में, मृतक रिश्तेदारों और दोस्तों की देखभाल करने के लिए मृतकों के ताबूतों को खोदने का रिवाज है. दक्षिण सुलावेसी के ऊंचे इलाकों में तोराजा में, पारंपरिक रूप से साल में एक बार अपने मृत रिश्तेदारों और दोस्तों के शवों को उनके साथ एक वार्षिक उत्सव में फिर से मिलाने के लिए कहा जाता है, जिसे मेनने कहा जाता है. यहां तक कि तीन दिनों तक चलने वाले अनुष्ठान को मनाने के लिए शिशुओं और बच्चों के शव भी खोदे जाते हैं.

यह भी पढ़ें: ये हैं दुनिया के 50 बेहतरीन रेस्टोरेंट्स, 2021 की लिस्ट में देखें क्या भारत का भी है नाम?

इस दौरान परिवार ताबूत खोलते हैं और शरीर को धोने से पहले सूखने देते हैं, दूल्हे और ममियों को नए फैंसी कपड़े पहनाते हैं और उन्हें गांव में घुमाने के लिए ले जाते हैं.

LIVE TV

Trending news