close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आज ऑस्ट्रेलिया के हर अखबार का पहला पन्ना काला क्यों था, जानिए वजह...

 ये बात केवल अखबार तक ही नहीं रूकी, बल्कि कई बड़ी वेबसाइट्स ने भी अपना होम पेज काला कर दिया.

आज ऑस्ट्रेलिया के हर अखबार का पहला पन्ना काला क्यों था, जानिए वजह...

कैनबरा : ऑस्ट्रेलिया (Australia) में पिछले कई दिनों से मीडिया की आज़ादी को लेकर बहस छिड़ी हुई है. इसके चलते वहां के कई बड़े अखबारों ने एक बड़ा फैसला लेते हुए सोमवार को प्रकाशित हुए अखबारों के पहले पन्‍ने को बिना किसी खबर छापे काला प्रकाशित किया. सोमवार सुबह देश के लगभग हर बड़े अखबार का पहला पन्ना काला था. ये बात केवल अखबार तक ही नहीं रूकी, बल्कि बड़ी वेबसाइट्स ने भी अपना होम पेज काला कर दिया.

दरअसल कुछ महीनों पहले पुलिस ने पत्रकारो के घर और दफ्तर पर छापे मारे. सरकार का कहना था कि उक्‍त लोगों ने सरकार और सेना विरोधी लेख लिखा है, जोकि गलत है. उसके बाद से ही सरकार को जनता और मीडिया का कड़ा विरोध प्रदर्शन सहना पड़ रहा है.

LIVE TV...

इस पूरे मामले में प्रेस ने सरकार के समक्ष छह मांगे रखी हैं, जिनमें से एक ये भी है कि पत्रकारों को सख्त राष्ट्र कानूनों से छूट दी जाए ताकि वो अपना काम निष्पक्षता और निडरता से कर सकें. सरकार का कहना है कि वे प्रेस की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं, लेकिन कानून से ऊपर कुछ नहीं.

डेली टेलीग्राफ, द ऑस्ट्रेलियन, हेराल्ड सन, फाइनेंशियल रिव्यु जैसे ऑस्ट्रेलिया के कई बड़े और प्रचलित अखबारों ने इस अभियान में एक-दूसरे का साथ दिया. इस मुहीम को 'राइट टू नो कोलिशन' का नाम दिया गया है और ये काले पन्ने इसी अभियान की एक कड़ी है.