close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सत्तारूढ़ पार्टी ‘अपनी खामियों में सुधार’ करेगी: रजब तैयब एर्दोआन

एर्दोआन ने अंकारा में अपने हजारों समर्थकों से कहा कि कल सुबह से हम अपनी खामियों की पहचान के लिए काम शुरू करेंगे और उसे ठीक करेंगे

सत्तारूढ़ पार्टी ‘अपनी खामियों में सुधार’ करेगी: रजब तैयब एर्दोआन
एर्दोआन ने अपने संबोधन में प्रत्यक्ष तौर पर चुनाव के पूर्ण परिणाम का जिक्र नहीं किया. (फाइल फोटो)

इस्तांबुलः तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने सोमवार को कहा कि उनकी सत्तारूढ़ पार्टी एकेपी अपनी खामियों में सुधार’ करेगी. राष्ट्रपति की यह घोषणा ऐसे समय में हुई है जब ऐसा प्रतीत हो रहा है कि पार्टी अंकारा में हार का सामना कर सकती है और इस्तांबुल के चुनाव में उसे कड़े मुकाबले का सामना करना पड़ रहा है. एर्दोआन ने अंकारा में अपने हजारों समर्थकों से कहा, ‘‘ अगर कुछ खामियां हैं तो यह हमारा कर्तव्य है कि हम इसमें सुधार करें.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ कल सुबह से हम अपनी खामियों की पहचान के लिए काम शुरू करेंगे और उसे ठीक करेंगे.’’ 

नेपाल में बारिश और तूफान का कहर, अब तक 25 लोगों की मौत, 400 घायल

हालांकि एर्दोआन ने अपने संबोधन में प्रत्यक्ष तौर पर चुनाव के पूर्ण परिणाम का जिक्र नहीं किया, लेकिन उन्होंने कहा कि अगर उनकी पार्टी इस्तांबुल में सत्ता से बाहर होती है और मेयर कोई विपक्षी उम्मीदवार बनता है तब भी उनकी पार्टी स्थानीय जिला परिषदों पर नियंत्रण रखेगी. 
दरअसल इस्ताबुल में एर्दोआन के उम्मदीवार पूर्व प्रधानमंत्री बिनाली यिल्दरीम ने पहले दावा किया कि वह चुनाव जीत गए हैं, लेकिन उनके विपक्षी एकरेम इमामोगुल का कहना है कि अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी क्योंकि मतों की गिनती अब भी हो रही है. 

स्लोवाकिया: 14 साल तक भ्रष्टाचार के लिए लड़ी लड़ाई, जुजाना कैपुतोवा बनीं पहली महिला राष्ट्रपति

अनादोलु सरकारी समाचार एजेंसी के मुताबिक एकेपी के उम्मीदवार को 48.71 फीसदी मतदान जबकि विपक्षी उम्मीदवार को 48.75 फीसदी मत हासिल हुए हैं. एर्दोआन और उनकी जस्टिस एंड डेवलपमेंट पार्टी (एकेपी) पहली बार 2002 में सत्ता में आए थे और उसके बाद से वह लगातार चुनाव जीतते रहे हैं लेकिन इस बार विश्लेषकों का कहना है कि पार्टी को अंकारा में हार और इस्तांबुल में कड़े मुकाबले का सामना करना पड़ सकता है.

(इनपुट भाषा)