भारत आने से पहले डोनाल्ड ट्रंप को लगा बहुत बड़ा झटका, जानिए क्या है मामला

 अमेरिकी जिला न्यायाधीश एमी बर्मन जैक्सन ने अदालत में कहा, "श्रीमान स्टोन ने झूठ बोला."

भारत आने से पहले डोनाल्ड ट्रंप को लगा बहुत बड़ा झटका, जानिए क्या है मामला
(फाइल फोटो)

वॉशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के लंबे समय के भरोसेमंद सहयोगी रोजर स्टोन को पूर्व विशेष वकील रॉबर्ट मुलर की रूसी दखल की जांच के दौरान कांग्रेस से झूठ बोलने और गवाहों को गुमराह करने के मामले में 40 महीने जेल की सजा सुनाई गई है. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, ट्रंप द्वारा मूल सजा की सिफारिश नाराजगी जताने वाले ट्वीट किए जाने के बाद न्याय विभाग द्वारा सजा को कम करने के फैसले को लेकर हुए विवाद के बीच गुरुवार को यह फैसला आया. अमेरिकी जिला न्यायाधीश एमी बर्मन जैक्सन ने अदालत में कहा, "श्रीमान स्टोन ने झूठ बोला."

स्टोन को जब मौका दिया गया तो उन्होंने नहीं बोलने का फैसला किया. ट्रंप प्रशासन द्वारा सजा को पलटने पर जैक्सन ने अभियोजन पक्ष के नए वकील, वाशिंगटन के अटॉर्नी कार्यालय के जॉन क्रेब जूनियर से पूछताछ की. क्रेब ने कहा कि वे खुली अदालत में आंतरिक मामलों के विभाग के विचार-विमर्श पर चर्चा करने के लिए अधिकृत नहीं हैं, उन्होंने मूल अभियोजन टीम की प्रशंसा करते हुए जोर देकर कहा कि न्याय विभाग 'भय या पक्ष' के बिना अपना काम करने के लिए प्रतिबद्ध है.

स्टोन पर 2016 के चुनाव के दौरान रूस के साथ समन्वय के किसी भी अंतर्निहित अपराध का आरोप नहीं लगाया गया था, हालांकि मुलर की टीम ने उनके विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे के संपर्क में होने का दावा करते हुए ट्वीट के बारे में उनके खिलाफ जांच की.

लाइव टीवी यहां देखें:-

चूंकि स्टोन के वकीलों ने पिछले हफ्ते एक नए मुकदमे की मांग करते हुए एक सीलबंद प्रस्ताव पेश किया था, इसलिए जैक्सन ने कहा कि गुरुवार की सजा तब तक लागू होने में देरी होगी जब तक कि प्रस्ताव का निपटारा नहीं हो जाता. संघीय अभियोजकों ने शुरू में पिछले हफ्ते सात से नौ साल की जेल की सजा की सिफारिश की थी.