इजरायल-हमास युद्ध के बीच तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने की अमेरिका-ऑस्ट्रिया की तीखी आलोचना, कहा-बाइडेन के हाथ खून से रंगे हैं

एर्दोगन ने कहा कि इजरायल का साथ देने वाले बाइडेन के हाथ खून से सने हैं. उन्होंने मौजूदा संघर्ष को लेकर अमेरिका और ऑस्ट्रिया की सीधे तौर पर कड़ी आलोचना की है.

इजरायल-हमास युद्ध के बीच तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने की अमेरिका-ऑस्ट्रिया की तीखी आलोचना, कहा-बाइडेन के हाथ खून से रंगे हैं
फाइल फोटो

अंकारा: इजरायल-हमास के बीच हिंसा लगातार बढ़ती जा रही है. अमेरिका ने इजरायल-हमास से संयम बरतने और आम लोगों को निशाना न बनाने की अपील की है, तो तुर्की ने अमेरिका और ऑस्ट्रिया के खिलाफ हमला बोला है. तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोगन ने कहा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के हाथ खून से रंगे हैं.

इजरायल का साथ देने पर बोला हमला

रायटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, एर्दोगन ने कहा कि इजरायल का साथ देने वाले बाइडेन के हाथ खून से सने हैं. उन्होंने मौजूदा संघर्ष को लेकर अमेरिका और ऑस्ट्रिया की सीधे तौर पर कड़ी आलोचना की है. एक खबर के मुताबिक एर्दोगन ने अपनी सरकार की कैबिनेट बैठक के दौरान बाइडेन पर जमकर निशाना साधा. उन्होंने इजरायल को हथियार बेचने को लेकर अमेरिका की आलोचना की. 

अमेरिकी हथियार सौदे से भड़के एर्दोगन

गौरतलब है कि सोमवार को अमेरिकी सरकार ने इज़रायल को 735 मिलियन डॉलर के हथियार बेचने को मंजूरी दी है. एर्दोगन ने कहा, 'आपने मुझे ये कहने के लिए बाध्य किया है कि आप अपने खूनी हाथों से इतिहास लिख रहे हैं. गाजा में हमले के दौरान सैकड़ों और हज़ारों की संख्या में लोग शहीद हो रहे हैं.'

तुर्की मांग रहा है इजरायल के खिलाफ मुस्लिम देशों का समर्थन

बता दें कि पिछले कुछ दिनों से एर्दोगन दुनिया के तमाम नेताओं से इजरायल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग कर रहे हैं. इस बीच एर्दोगन ने कहा है कि मस्जिद-ए-अक्सा की तरफ़ बढ़ते हुए हाथ तोड़ दिए जाएंगे. उन्होंने कहा, 'अगर पूरी दुनिया भी ख़ामोश हो जाए तो भी तुर्की अपनी आवाज़ उठाता रहेगा. मैंने सीरियाई सीमा के पास जिस तरह दहशतगर्दों का रास्ता रोका, उसी तरह मस्जिद-ए-अक्सा की तरफ बढ़ते हुए हाथों को भी तोड़ देंगे.'

अमेरिका ने मांगा इजरायल से जवाब

इजरायल-फिलीस्तीन में बढ़ती लड़ाई के बीच अमेरिका का बयान आया है. अमेरिका के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट एंथोनी ब्लिंकेन ने इजरायल से मीडिया संस्थानों का बिल्डिंग पर हमले को लेकर सफाई मांगी है. उन्होंने कहा कि मीडिया संस्थानों की बिल्डिंग को निशाना बनाने के मामले में इजरायल को सफाई देनी चाहिए. बता दें कि इजरायल ने उस बिल्डिंग को हवाई हमले में पूरी तरह से नेस्तनाबूद कर दिया था, जिसमें एपी न्यूज एजेंसी और अल जजीरा जैसे इंटरनेशनल मीडिया संस्थानों के दफ्तर थे. ये बिल्डिंग गाजा पट्टी में थी. 

ये भी पढ़ें: इजरायल ने फिर बोला गाजा पर हमला

इजरायल के इस बयान से असंतुष्ट है अमेरिका

इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इसे एकदम सोच समझकर किया गया परफेक्ट शिकार कहा था. इजरायल ने दावा किया था कि उस बिल्डिंग में हमास की खुफिया विभाग से जुड़ा दफ्तर था और मीडिया संस्थानों की बिल्डिंग से ही इजरायल के खिलाफ लड़ाई लड़ी जा रही थी. हालांकि अमेरिका इजरायल के इस बयान से असहमत है, इसलिए उसने इजरायल से पूरी जानकारी साझा करने को कहा है. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.