डोनाल्ड ट्रंप के बुलावे पर अमेरिका जाएंगे पीएम मोदी, 26 जून को होगी दोनों नेताओं की मुलाकात

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के निमंत्रण पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 25 वें और 26 जून को संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा करेंगे. वहा 26 जून को अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ बातचीत करेंगे. पिछले साल नवंबर में प्रधान मंत्री मोदी ने ट्रम्प को अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में चुना जाने पर बधाई दी थी.

डोनाल्ड ट्रंप के बुलावे पर अमेरिका जाएंगे पीएम मोदी, 26 जून को होगी दोनों नेताओं की मुलाकात
26 जून को मोदी-ट्रंप मुलाकात संभव (file pic)

नई दिल्ली: राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के निमंत्रण पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी 25 वें और 26 जून को संयुक्त राज्य अमेरिका की यात्रा करेंगे. वहा 26 जून को अमेरिकी राष्ट्रपति के साथ बातचीत करेंगे. पिछले साल नवंबर में प्रधान मंत्री मोदी ने ट्रम्प को अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में चुना जाने पर बधाई दी थी और कहा था कि वह भारत-अमेरिका संबंधों को नई ऊंचाई तक ले जाने के लिए उनके साथ मिलकर काम करने की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25-26 जून के प्रस्तावित अपने अमेरिकी दौरे के दौरान पहली बार राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप से मुलाकात करेंगे. विदेश मंत्रालय द्वारा सोमवार (12 जून) को जारी एक बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री मोदी वॉशिंगटन में राष्ट्रपति ट्रंप के साथ 26 जून को आधिकारिक वार्ता करेंगे. ट्रंप के जनवरी में सत्ता संभालने के बाद दोनों नेताओं ने फोन पर तीन बार बात की है, लेकिन तब से या उससे पहले उनकी कोई मुलाकात नहीं हुई है.

आगामी अमेरिकी दौरा ट्रंप के एच1-बी वीजा जारी करने के नियमों को सख्त करने के प्रयासों और अमेरिका के पेरिस जलवायु समझौते से हटने के मद्देनजर महत्वपूर्ण है. इस बयान में कहा गया है, "उनकी चर्चाओं से आपसी हित के द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने की नई दिशा और भारत व अमेरिका के बहुआयामी रणनीतिक साझेदारी के एकीकरण को मजबूती मिलेगी."

प्रधानमंत्री मोदी ने बीते साल जून में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के निमंत्रण पर अमेरिका का दौरा किया था, और उस दौरान ओबामा के साथ आधिकारिक वार्ता के अलावा मोदी ने अमेरिकी कांग्रेस के संयुक्त बैठक को भी संबोधित किया था.

45 वें अमेरिकी राष्ट्रपति के रूप में निर्वाचित होने पर नरेंद्र मोदी ने डोनाल्ड ट्रंप को एक ट्वीट के जरिए बधाई दी थी. उन्होंने एक ट्वीट में कहा था, 'द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के लिए देश ट्रम्प के साथ मिलकर काम करने की प्रतीक्षा कर रहा है."हम आपके साथ मिलकर काम करने के लिए तत्पर हैं, भारत-अमेरिका द्विपक्षीय संबंधों को नई ऊंचाई तक ले जाने के लिए तत्पर हैं. हम आपके अभियान के दौरान भारत के प्रति अपनी मित्रता की सराहना करते हैं.'

बधाई का जवाब देते हुए, ट्रम्प ने उस समय प्रधान मंत्री मोदी को संयुक्त राज्य अमरीका की यात्रा के लिए निमंत्रित किया था. वॉशिंगटन में एक आधिकारिक बयान में कहा गया था कि ट्रम्प ने भारत को "दुनिया भर में चुनौतियों का सामना करने में एक सच्ची दोस्त और साथी के रूप में देखा हैं.

"दोनों ने भारत और यूनाइटेड स्टेट्स के बीच अर्थव्यवस्था और रक्षा जैसे व्यापक क्षेत्रों में साझेदारी को मजबूत करने के अवसरों पर चर्चा की. अमेरिकी के बयान में कहा गया था कि ट्रम्प और प्रधान मंत्री मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में कंधे से कंधे मिला कर खड़े रहने का संकल्प लिया है . ट्रम्प अनुभवी राजनीतिज्ञ हिलेरी क्लिंटन को चुनाव में हराकर, 45 वें अमेरिकी राष्ट्रपति बने .