ब्रिटेन आम चुनाव: पहली बार चुनी गई सिख महिला और पगड़ीधारी सांसद, भारतीय मूल के कुल 12 सांसद

ब्रिटेन में शुक्रवार (9 जून) को आए आम चुनाव के नतीजे के साथ भारतीय मूल के सांसदों की संख्या में हल्की बढ़ोतरी हुई. जीतने वाले भारतीय मूल के उम्मीदवारों में प्रीत कौर गिल और तनमनजीत सिंह शामिल हैं. प्रीत पहली सिख महिला सांसद और तनमनजीत पहले पगड़ीधारी सांसद हैं. नवीनतम आंकड़े से संकेत मिलता है कि लेबर पार्टी की ओर से भारतीय मूल के सात उम्मीदवार जबकि कंजर्वेटिव पार्टी की ओर से पांच को जीत मिली है. पिछले चुनाव में लेबर पार्टी की ओर से पांच उम्मीदवारों को जीत मिली थी.

ब्रिटेन आम चुनाव: पहली बार चुनी गई सिख महिला और पगड़ीधारी सांसद, भारतीय मूल के कुल 12 सांसद
प्रीत कौर गिल (बाएं) ने बर्मिंघम एजबास्टन सीट से, जबकि तनमनजीत सिंह स्लोघ सीट हासिल की है. (फोटो : ट्विटर)

लंदन: ब्रिटेन में शुक्रवार (9 जून) को आए आम चुनाव के नतीजे के साथ भारतीय मूल के सांसदों की संख्या में हल्की बढ़ोतरी हुई. जीतने वाले भारतीय मूल के उम्मीदवारों में प्रीत कौर गिल और तनमनजीत सिंह शामिल हैं. प्रीत पहली सिख महिला सांसद और तनमनजीत पहले पगड़ीधारी सांसद हैं. नवीनतम आंकड़े से संकेत मिलता है कि लेबर पार्टी की ओर से भारतीय मूल के सात उम्मीदवार जबकि कंजर्वेटिव पार्टी की ओर से पांच को जीत मिली है. पिछले चुनाव में लेबर पार्टी की ओर से पांच उम्मीदवारों को जीत मिली थी.

प्रीत ने 24,124 वोटों के साथ बर्मिंघम एजबास्टन सीट जीती है. उन्होंने कंजर्वेटिव पार्टी के उम्मीदवार कैरोलिन स्क्वायर को 6,917 मतों के अंतर से हराया है. उन्होंने कहा, ‘मैं खुश हूं कि मुझे एजबास्टन का अगला सांसद बनने का अवसर दिया गया. यहां मेरा जन्म हुआ और मेरी परवरिश हुई. मैं मेहनत और लगन के साथ एजबास्टन की जनता के साथ सहयोग बढ़ाना चाहती हूं. मुझे लगता है कि हम मिलकर बड़े लक्ष्य हासिल कर सकते हैं.'

जीत दर्ज करने वाले दूसरे उम्मीदवार तनमनजीत सिंह देसाई जिन्हें तान के नाम से भी जाना जाता है, ने स्लोघ सीट 34,170 मतों के साथ जीती है. वे लेबर पार्टी के पहले पगड़ीधारी सांसद हैं. उन्होंने कंजर्वेटिव पार्टी के अपने प्रतिद्वंद्वी को 16,998 वोटों के बड़े अंतर से हराया. देसाई ने कहा कि वह जीत से ‘वशीभूत’ हैं और उस शहर की सेवा करना चाहते हैं जहां वह पले-बढ़े.

सिख फेडरेशन यूके ने एक बयान जारी कर कहा, ‘सारा श्रेय लेबर पार्टी को जाता है जिसने सिखों को चुनाव लड़ाने का अवसर देने का साहसिक कदम उठाया. पार्टी को अब अपना ध्यान सबसे पहले हाउस ऑफ लॉर्डस (ऊपरी सदन) में सिखों के पर्याप्त प्रतिनिधित्व पर देना चाहिए ताकि उनका बेहतर प्रतिनिधित्व हो और वे नई सोच और नये विचार लेकर आएं.’ 

भारतीय मूल के विजयी उम्मीदवारों में कंजर्वेटिव पार्टी की प्रीति पटेल, आलोक शर्मा और शैलेश वारा शामिल हैं जिन्हें क्रमश: विदम (एसेक्स), रीडिंग वेस्ट और क्रैंबिजशायर नॉर्थ वेस्ट सीटों से जीत मिली. कंजर्वेटिव पार्टी की ओर से चुनाव लड़ रहे ऋषी सुनक और सुएला फर्नांडिस को भी जीत मिली.

वहीं लेबर पार्टी के दूसरे विजयी उम्मीदवारों में कीथ वाज (लीसेस्टर ईस्ट), उनकी बहन वलेरी वाज (वालसाल साउथ), लीजा नंदी (विगन), सीमा मल्होत्रा (फेल्थम एंड हेस्टन), वीरेंद्र शर्मा (ईलिंग साउथऑल) शामिल हैं.