विदेश यात्रा प्लान करने से पहले पढ़ लें ये खबर, इस देश ने लागू किया नया नियम

जो इंग्लैंड में क्वांरिंटीन का उल्लंघन करेगा उस पर 1,000 पाउंड का फाइन लगाया जाएगा. 

विदेश यात्रा प्लान करने से पहले पढ़ लें ये खबर, इस देश ने लागू किया नया नियम
(फाइल फोटो)

लंदनः कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते संक्रमण पर लगाम लगाने के लिए ब्रिटेन ने नया कदम उठाया है. देश 8 जून से विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए कोविड-19 क्वारिंटीन ड्यूरेशन शुरू करेगा. यह जानकारी इंटीरियर मिनिस्टर प्रीति पटेल ने शुक्रवार को दी. वहीं, एयरलाइन कंपनियों ने चेतावनी दी है कि इससे उनका उद्योग तबाह हो जाएगा. 

ब्रिटेन लौटने पर सभी अंतरराश्ट्रीय आगमन को 14 दिन के लिए सेल्फ-आइसोलेट किया जाएगा और साथ ही उन्हें यह भी जानकारी देनी होगी कि वे कहां-कहां रूके, एयरलाइन, बिजनेस ग्रुप्स और नेताओं ने इसकी आलोचना की है.  

ये भी देखें-

पटेल ने एक न्यूज कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘हम इस संक्रमण के आखिरी दौर में हैं इसलिए हमें इस जानलेवा बीमारी को फिर से फैलने पर लगाम लगाने के लिए आने वाले मामलों में बचाव के लिए कदम उठाने चाहिए.’

ये भी पढे़ं- Coronavirus: ट्रंप को जिस दवा पर भरोसा, उससे मौत का खतरा ज्यादा, स्टडी में हुआ खुलासा

जो इंग्लैंड में क्वांरिंटीन का उल्लंघन करेगा उस पर 1,000 पाउंड का फाइन लगाया जाएगा. स्वास्थ्य और बाॅर्डर अधिकारियों द्वारा स्पाॅट जांचें होंगी. यह क्वांरिंटीन आयरिश रिपब्लिक से आने वाले लोगों या मालगाड़ी चलाने वाले ड्राइवरों, स्वास्थ्य सेवाकर्मियों और मौसमी कृषि मजदूरों पर लागू नहीं होगा. इन उपायों की हर तीन सप्ताह में समीक्षा की जाएगी. 

यूरोप महाद्वीप में ब्रिटेन के सबसे करीब पड़ोसी, फ्रांस सरकार ने कहा कि उसे  ब्रिटेन के इस निर्णय पर पछतावा है. आपको बता दें कि अन्य देशों की तुलना में, ब्रिटेन ने चीन से आने वाले यात्रियों की स्क्रीनिंग कर शुरू कर दी थी, कोरोना के लक्षण पाए जाने पर लोगों को क्वारंटीन में भी रखा गया था.

द ब्रिटिश चैंबर्स आफ काॅमर्स (बीसीसी) के महानिदेषक एडम मार्शल ने कहा, ‘यह दृष्टिकोण ऐसे समय में अंतरराष्ट्रीय व्यापार और निवेशकों के विश्वास को नुकसान पहुंचाएगा जब यह दिखाना जरूरी है कि यूके व्यापार के लिए सुरक्षित रूप से खुल सकता है.’

ये भी पढ़ें- सामने आया पाकिस्तान का अमानवीय चेहरा: कोरोना काल में हिंदुओं को किया बेघर

विपक्ष लेबर पार्टी ने इस उपाय का समर्थन किया है, लेकिन यह भी कहा है कि सरकार ने यूके में आने वाले लोगों से निपटने के लिए शुरू से ही तात्कालिकता, सुसंगतता और स्पष्टता कम दिखाई.’ प्रधानमंत्री बोरिस जाॅनसन की कंजर्वेटिव पार्टी के कुछ सदस्यों ने भी इस योजना की आलोचना की है. कुछ एयरलाइनों ने भी ब्रिटेन के इस फैसले की आलोचना की है. 

उद्योग निकाय यूके के मुख्य कार्यकारी अधिकारी टिम एल्डर्लेड ने कहा, ‘क्वारिंटीन को इस स्तर पर शुरू करने का कोई मतलब नहीं है. अगर सरकार अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करना चाहती है तो यह सबसे बुरा कर रही है.‘