वैश्विक चुनौतियों से निपटने को गुटेरेस ने किया एकता का आह्वान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंटोनियो गुटेरेस ने रेखांकित किया कि दुनिया में संघर्षों में इजाफा हो रहा है और वे एक-दूसरे से जुड़ते जा रहे हैं जिससे वैश्विक आतंकवाद की नई परिघटना शुरू हो गई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह ‘चमत्कार करने वाले कोई शख्स’ नहीं हैं।

वैश्विक चुनौतियों से निपटने को गुटेरेस ने किया एकता का आह्वान

संयुक्त राष्ट्र : संयुक्त राष्ट्र महासचिव अंटोनियो गुटेरेस ने रेखांकित किया कि दुनिया में संघर्षों में इजाफा हो रहा है और वे एक-दूसरे से जुड़ते जा रहे हैं जिससे वैश्विक आतंकवाद की नई परिघटना शुरू हो गई है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह ‘चमत्कार करने वाले कोई शख्स’ नहीं हैं।

संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में बान की-मून से विश्व निकाय की बागडोर संभालने के बाद अपने कार्यकाल के पहले दिन 67 वर्षीय गुटेरेस ने कहा कि इस पद पर उनके चुने जाने से ढेर सारी अपेक्षाओं का जन्म हुआ है लेकिन लोगों को जानना चाहिए कि वह कोई चमत्कार नहीं कर सकते।

उन्होंने कहा, मैं समझता हूं कि हमें कोई भ्रम नहीं होना चाहिए। हम बहुत ही चुनौतिपूर्ण समय का सामना कर रहे हैं। दुनिया में सभी जगहों पर टकराव है जो बढ़ रहे हैं, जो एक-दूसरे से जुड़े हैं। इनसे वैश्विक आतंकवाद की एक नई परिघटना का जन्म हुआ है। इन टकरावों में अंतरराष्ट्रीय मानवीय नियमों का सम्मान नहीं किया जाता। ऐसी स्थितियां हैं जिनमें हम बड़े पैमाने पर मानवाधिकार उल्लंघन के मामले देख रहे हैं। कुछ साल पहले तक शरणार्थी कानूनों का सम्मान किया जाता था, अब उनका भी सम्मान नहीं हो रहा है। 

गुटेरेस ने कहा, मैं आश्वस्त हूं कि मैं चमत्कार करने वाला व्यक्ति नहीं हूं। और अपने लक्ष्य हासिल करने में सक्षम होने का एकमात्र रास्ता यह है कि हम एक टीम की तरह मिल-जुल कर काम करें और संयुक्त राष्ट्र के चार्टर में समाहित महान मूल्यों की सेवा कर सकने के लायक बनें।’’ 

पूर्व पुर्तगाली प्रधानमंत्री ने कहा, ‘देश यह समझ पाने में नाकामयाब हो रहे हैं कि हम जो भी करते हैं उसको एक धागे में पिरोने वाला कोई कारक होता है। और वह कारक आम लोग हैं। लोग अविभाजित हैं। और हम जब संयुक्त राष्ट्र में विभिन्न कार्य क्षेत्रों पर गौर करते हैं तो पाते हैं कि हमें उन्हें एकीकृत करने की जरूरत पड़ती है क्योंकि प्रक्रिया के अंतिम छोर पर लोग ही उन्हें एकीकृत करते हैं।’ 

गुटेरेस ने यह सुनिश्चित करने पर भी जोर दिया कि जैसा सदस्य देशों ने हम से मांग की है, हम संयुक्त राष्ट्र विकास प्रणाली में सुधार करने में सक्षम हों। हमें नौकरशाही के जाल से निजात हासिल करने की कोशिश करनी चाहिए जो हमारी बहुत सी चीजों में हमारी जिंदगी मुश्किल बना देते हैं। उन्होंने टीम की शक्ल में काम करने का आह्वान किया और कहा कि यह काफी नहीं है कि हम सही चीज करें, हमें सही चीज करने का अधिकार अर्जित करने की जरूरत है।