उत्तर कोरिया मसले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बैठक, किम जोंग पर और कस सकता है शिकंजा

जापान ने एक नोट जारी किया है, जिसमें सुझाव दिया गया है कि सुरक्षा परिषद के सदस्य देश परमाणु और मिसाइल विकास कार्यक्रमों के साथ-साथ सामूहिक विनाश के हथियारों को नष्ट करने पर भी चर्चा कर सकते हैं.

उत्तर कोरिया मसले पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में बैठक, किम जोंग पर और कस सकता है शिकंजा
उत्तर कोरिया के कथित तानाशाह किम जोंग उन. (फाइल फोटो)

संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) उत्तर कोरिया से अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को बढ़ते खतरे और चुनौतियों पर चर्चा के लिए शुक्रवार (15 दिसंबर) को एक मंत्रिस्तरीय बैठक आयोजित करेगी. समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, जापानी विदेश मंत्री तारो कोनो की अध्यक्षता में होने जा रही इस बैठक में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस और अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन के मौजूद होने की भी उम्मीद है. बैठक में उत्तर कोरियाई प्रतिनिधि भी मौजूद रहेंगे. जापान ने एक नोट जारी किया है, जिसमें सुझाव दिया गया है कि सुरक्षा परिषद के सदस्य देश परमाणु और मिसाइल विकास कार्यक्रमों के साथ-साथ सामूहिक विनाश के हथियारों को नष्ट करने पर भी चर्चा कर सकते हैं. सदस्यों से उत्तर कोरिया पर ज्यादा से ज्यादा दबाव बनाने के तरीकों पर विचार करने के लिए भी कहा गया है, जिसमें अतिरिक्त प्रतिबंध लगाया जाना भी शामिल है.

तनाव के बीच बोले रेक्स टिलरसन, अमेरिका बिना शर्त उत्तर कोरिया से बातचीत को तैयार

इससे पहले उत्तर कोरिया को दुनिया का सबसे मजबूत परमाणु शक्ति वाला देश बनाने की किम जोंग-उन की घोषणा के बीच अमेरिका के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने बीते 13 दिसंबर को कहा है कि अमेरिका परमाणु नि:शस्त्रीकरण मुद्दे पर बिना पूर्व शर्त के उत्तर कोरिया के साथ वार्ता शुरू करने को तैयार है. अमेरिका ने उत्तर कोरिया को यह पेशकश ऐसे समय की है जब उसकी अर्थव्यवस्था की रीढ़ तोड़ने वाले कई प्रतिबंध उत्तर कोरिया पर लगे हुए हैं और दो सप्ताह पहले ही इस देश ने अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टक मिसाइल का परीक्षण किया है.

इस पेशकश से ऐसा प्रतीत हो रहा है कि टिलरसन के पहले वाले रुख में अंतर आया है क्योंकि टिलरसन ने एक बार कहा था कि अमेरिका उत्तर कोरिया के साथ कोई मोल-तोल नहीं करेगा और वार्ता तभी संभव है जब किम-जोंग उन सरकार परमाणु नि:शस्त्रीकरण के लिए तैयार हो. टिलरसन ने कहा, ' हमने इसे कूटनीतिक तौर पर कहा है कि अगर उत्तर कोरिया बातचीत को तैयार होता है तो हम कभी भी बातचीत को तैयार हैं. हम पहली वार्ता बिना किसी पूर्व शर्त के करने को तैयार हैं.'

टिलरसन अटलांटिक काउंसिल कोरिया फाउंडेशन फोरम की ओर से आयोजित 'मीटिंग द फॉरेन पॉलिसी चैलेंजेज ऑफ 2017 एंड बियॉन्ड' कार्यक्रम में बोल रहे थे. यह पेशकश राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की चेतावनी से ठीक उलट है. राष्ट्रपति ने कहा था कि बातचीत विफल हो चुकी है और टिलरसन अपना समय बर्बाद कर रहे हैं. टिलरसन ने कहा है कि उत्तर कोरिया से यह मांग करना कि वह बातचीत शुरू करने से पहले अपने हथियार छोड़ दे, यह मांग व्यवहार्य नहीं है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.