पाकिस्तान को चीन के मुसलमानों की चिंता क्यों नहीं है? अमेरिका ने इमरान को लगाई लताड़

चीन में मुस्लिमों के साथ हो रहे अत्याचारों पर पाकिस्तान की चुप्पी को लेकर अमेरिका ने इमरान खान को लताड़ लगाई.

पाकिस्तान को चीन के मुसलमानों की चिंता क्यों नहीं है? अमेरिका ने इमरान को लगाई लताड़
अमेरिका ने पूछा कि पाकिस्तान सिर्फ कश्मीरी मुसलमानों के मानवाधिकारों के बारे में क्यों परेशान है? (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: अमेरिका ने पाकिस्तान (Pakistan) से पूछा है कि वह सिर्फ कश्मीरी मुसलमानों के मानवाधिकारों के बारे में क्यों परेशान है और चीन में रह रहे इस समुदाय की ''भयावह हालातों" को उजागर क्यों नहीं कर रहा है.

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 74वें सत्र में एक विशेष ब्रीफिंग के दौरान दक्षिण और मध्य एशिया के लिए अमेरिका के कार्यवाहक सहायक सचिव एलिस वेल्स ने चीन के खिलाफ बात न करने के लिए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) की आलोचना की. चीन ने अपने झिंजियांग प्रांत में एक लाख उइगर और तुर्क भाषी मुसलमानों को हिरासत में ले रखा है.

चीन पाकिस्तान का स्थायी मित्र है. जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर और मुंबई आतंकी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद जैसे पाकिस्तानी आतंकवादियों के खिलाफ प्रतिबंध लगाने के वैश्विक प्रयासों के मामले में बीजिंग अक्सर इस्लामाबाद का बचाव करता आया है.

चीन ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दा उठाया
चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में कश्मीर मुद्दे को उठाया. उन्होंने कहा कि 'कश्मीर मुद्दा अतीत का विवाद है, और इसका संयुक्त राष्ट्र चार्टर, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों और द्विपक्षीय समझौतों के अनुसार उचित और शांतिपूर्वक हल होना चाहिए.' उन्होंने कहा, "ऐसा कोई भी कदम नहीं उठाया जाना चाहिए, जिससे यथास्थिति में कोई बदलाव हो." यी ने कहा, "भारत और पाकिस्तान दोनों का पड़ोसी होने के नाते, चीन यह देखने की उम्मीद करता है कि दोनों पक्षों के बीच विवाद का निपटारा सही तरीके से हो और संबंधों में स्थिरता बहाल हो."

इमरान ने फिर अलापा कश्मीर राग
पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण में कश्मीर मुद्दे पर अपना ध्यान केंद्रित करते हुए भारत पर निशाना साधा. उन्होंने अपने संबोधन में उन्हीं सब बातों को दोहराया, जो वह बीते कुछ सप्ताह से कर रहे थे. इमरान खान ने शीर्ष विश्व फॉरम को भी अपने संप्रदायिक दृष्टिकोण से नहीं बख्शा. उन्होंने खुले तौर पर 'आरएसएस के भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी' द्वारा 'मुस्लिमों के जातीय नरसंहार' के खिलाफ वैश्विक मुस्लिम भावना से अपील की.

अपने देश और इसकी समस्या को नजरअंदाज करते हुए, इमरान खान ने अपना ध्यान पूरी तरह से कश्मीर पर दिया. इमरान ने चेतावनी देते हुए कहा कि भारत के जम्मू एवं कश्मीर में जब कर्फ्यू हटेगा, तब वहां खूनखराबा होगा. तब क्या होगा. क्या किसी ने इस बारे में सोचा है.

(इनपुट-एजेंसी से भी)