अमेरिका ने बैकअप प्रणाली के तौर पर किया मतपत्रों का समर्थन

ट्रंप ने कहा कि मतपत्र का इस्तेमाल हमेशा अच्छा रहा है. भले ही यह पुरानी प्रणाली हो, लेकिन मतदान के बैकअप प्रणाली के तौर पर मतपत्र का इस्तेमाल हमेशा से अच्छा रहा है.

अमेरिका ने बैकअप प्रणाली के तौर पर किया मतपत्रों का समर्थन
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बैकअप प्रणाली के तौर पर मतपत्रों के इस्तेमाल का सुझाव दिया. (फाइल फोटो)

वाशिंगटन: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश की चुनावी प्रक्रियाओं में बाहरी दखल या हस्तक्षेप के आरोपों के बीच बुधवार को बैकअप प्रणाली के तौर पर मतपत्रों के इस्तेमाल का सुझाव दिया. अमेरिका की यात्रा पर आए स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों के साथ बात करते हुए ट्रंप ने कहा कि मतपत्र का इस्तेमाल हमेशा अच्छा रहा है. भले ही यह पुरानी प्रणाली हो, लेकिन मतदान के बैकअप प्रणाली के तौर पर मतपत्र का इस्तेमाल हमेशा से अच्छा रहा है. उन्होंने कहा कि कई देशों में अब भी इसका इस्तेमाल हो रहा है.

ये भी पढ़ें: डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को बताया बेहतर दोस्त, कहा- साथ में काम करना खुशी देता है

जवाब देने के लिए है मजबूत बैकअप प्रणाली
ट्रंप ने कहा कि बैकअप प्रणाली के तौर पर मतपत्र का इस्तेमाल होना चाहिए और मुझे लगता है कि यह अच्छा विचार है. उन्होंने कहा कि हालांकि हम इस पर बहुत गहनता से अध्ययन कर रहे हैं. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने बताया कि होमलैंड सिक्योरिटी समेत कई एजेंसियां इस पर अध्ययन कर रही हैं. ट्रंप ने कहा, 'अमेरिकी चुनाव में रूसी दखल को लेकर वह आशंकित नहीं हैं.' उन्होंने कहा कि 'ऐसा बिल्कुल नहीं है क्योंकि वह जो भी करें हम उनका माकूल जवाब देंगे और हमारे पास एक मजबूत बैकअप प्रणाली भी है.'

चुनाव में दखल देना पड़ेगा भारी: स्टीफन लोफवेन
स्वीडन के प्रधानमंत्री ने कहा, 'हमलोग यूरोपीय संघ के अन्य देशों के साथ सहयोग कर रहे हैं. हमारी कुछ एजेंसियां अमेरिकी समकक्षों को भी सहयोग कर रही हैं और हम लोग इसे जारी रखेंगे. कोई विदेशी ताकत अगर यह समझती है कि वह हमारे चुनाव में दखल दे सकती है, हम उनका पता लगायेंगे और उन्हें माकूल जवाब देंगे.'